Video: यहां मिट्टी का रावण बनाकर पैरों से रौंदते हैं

मिट्टी का रावण बनाने की बात पर आप चौंक जाएंग, लेकिन वर्षों से मिट्टी के रावण बनाने की परम्परा अभी है। कोटा में नांता स्थित जेठी समाज के बड़े अखाड़े में वर्षों से मिट्टी का रावण बनाने की परम्परा का निर्वहन अभी भी किया जा रहा है।

By: Haboo Lal Sharma

Published: 24 Oct 2020, 08:09 PM IST

कोटा. मिट्टी का रावण बनाने की बात पर आप चौंक जाएंग, लेकिन वर्षों से मिट्टी के रावण बनाने की परम्परा अभी है। कोटा में नांता स्थित जेठी समाज के बड़े अखाड़े में वर्षों से मिट्टी का रावण बनाने की परम्परा का निर्वहन अभी भी किया जा रहा है। कोटा में मिट्टी का रावण बनाने का काम श्राद्ध शुरू होते ही नांता स्थित जेठी समाज बड़ा अखाड़ा स्थित लिम्बजा माता मंदिर के अंदर शुरू हो जाता है, जिसे अमावस्या तक पूरा करना होता है। रावण के सिर व मुंह पर ज्वारे भी उगाए जाते है। नवरात्र के दिन पूजा अर्चना कर मंदिर का मुख्य द्वार बंद कर दिया जाता और नवमी के दिन मंदिर का दरवाजा खोला जाता है। नो दिनों तक मंदिर में केवल अखाड़ा जमादार (संरक्षक) दूसरे रास्ते से जाकर मंदिर में पूजा-अर्चना करता है।

खास मिट्टी का उपयोग
जेठी समाज के आशीष जेठी ने बताया कि मिट्टी का रावण बनाने के लिए खास मिट्टी का उपयोग किया जाता है। इस मिट्टी को घी, दूध, दही, शक्कर व शहद मिलाकर तैयार किया जाता है।

Haboo Lal Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned