कोटा रेल मंडल ने वैगन रखरखाव में बना दिया रेकॉर्ड

औसतन 60 वैगन प्रतिमाह ओवर हॉलिंग की क्षमता वाले डिपो ने जुलाई 2020 में एक महीने में 136 वैगनों की ओवर हॉलिंग करके रेकॉर्ड बनाया है।

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 03 Aug 2020, 12:20 AM IST

कोटा. कोटा रेल मंडल में पहियों पर डेढ़ हजार रोगियों की क्षमता का अस्पताल बनाने के बाद वैगनों के रख रखाव की क्षमता बढ़ाने का रेकॉर्ड बनाया है। कोरोना के बीच माल पहिवहन बढऩे के बाद रेल प्रशासन को अतिरिक्त वैगनों के रख रखाव की चिंता होने लगी, लेकिन यांत्रिक विभाग की टीम ने इसका हल निकाल लिया। पश्चिम मध्य रेलवे कोटा स्थित यांत्रिक विभाग के वैगन आवधिक अनुरक्षण शेड में बॉक्स एन, बीसीएन और बीआरएन जैसे अलग-अलग प्रकार के रेलवे वैगनों की ओवर हॉलिंग का काम किया जाता है। औसतन 60 वैगन प्रतिमाह ओवर हॉलिंग की क्षमता वाले इस डिपो ने जुलाई 2020 में एक महीने में 136 वैगनों की ओवर हॉलिंग करके रेकॉर्ड बनाया है। कोविड-19 के दौरान एक हिस्से से दूसरे हिस्से में खाद्यान्न, उर्वरक, सीमेंट, कोयला सहित कई जीवनोपयोगी सामग्री का परिवहन प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है। ऐसे दौर में माल ढुलाई के काम में उपयोग में आने वाले वैगनों के रखरखाव एवं उनके रूटीन ओवर हॉलिंग के कार्य का दबाव भी बढ़ गया। जहां एक ओर भारत में अधिकांश कार्यस्थल कोविड-19 लॉक डाउन में मैन पावर की कमी के कारण उत्पादन में कमी का सामना कर रहे थे, वहीं कोटा स्थित इस डिपो ने अपनी सामान्य क्षमता से दोगुने से अधिक उत्पादन देकर कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में सहयोग किया है। सीनियर डीसीएम अजयकुमार पाल ने बताया कि डिपो के कर्मचारियों एवं प्रशासन ने सम्पूर्ण सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए कार्य किया। जुलाई माह में दिए गए 120 के लक्ष्य की तुलना में 136 वैगन की रूटीन ओवर हॉलिंग की गई। इसके अलावा 51 वैगनों का दोहरी एयर ब्रेक प्रणाली में परिवर्तन का अतिरिक्त कार्य सम्पूर्ण किया।

Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned