scriptKota's sailing academy did not come out of the papers | कागजों से बाहर ही नहीं निकली कोटा की नौकायन एकेडमी | Patrika News

कागजों से बाहर ही नहीं निकली कोटा की नौकायन एकेडमी

कोटा. करीब 9 साल पहले कोटा में खोली गई प्रदेश की पहली नौकायन एकेडमी कागजों से बाहर ही नहीं निकली। खेलों में नौकायन को बढ़ावा देने और हाड़ौती से नौकायन के खिलाड़ी तैयार करने के लिए तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने वर्ष 2012-13 के बजट में कोटा में नौकायन अकादमी शुरू करने की घोषणा की थी।

कोटा

Published: December 18, 2021 12:56:46 am

दीपक शर्मा
कोटा. करीब 9 साल पहले कोटा में खोली गई प्रदेश की पहली नौकायन एकेडमी कागजों से बाहर ही नहीं निकली। खेलों में नौकायन को बढ़ावा देने और हाड़ौती से नौकायन के खिलाड़ी तैयार करने के लिए तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने वर्ष 2012-13 के बजट में कोटा में नौकायन अकादमी शुरू करने की घोषणा की थी। एकेडमी के भवन के लिए 50 लाख रुपए भी स्वीकृत किए गए थे। घोषणा को अमलीजामा पहनाने के लिए ओलम्पियन बजरंग ताखर को कोच भी नियुक्त किया था, लेकिन उपकरण नहीं मिलने से एकेडमी की नौका पानी में नहीं उतर सकी। वर्ष 2017-18 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने बजट में कोटा में बालिका फुटबॉल अकादमी शुरू करने की घोषणा की। तत्कालीन 17 खेल अकादमियों के लिए सवा पांच करोड़ खर्च किए जाने थे। नौकायन एकेडमी के लिए स्वीकृत राशि से बने भवन को बाद में फुटबॉल अकादमी के लिए दे दिया गया।
कागजों से बाहर ही नहीं निकली कोटा की नौकायन एकेडमी
कागजों से बाहर ही नहीं निकली कोटा की नौकायन एकेडमी
किशोर सागर में उतारनी थी नौका, पर नहीं मिला मौका
नौकायन अकादमी के प्रशिक्षुओं को किशोर सागर तालाब में ट्रेनिंग दी जानी थी, इसके लिए तालाब में जेटी भी बनाई गई, लेकिन नौका को उतारने का मौका ही नहीं मिला। खेल उपकरण नहीं मिलने से नौकायन अकादमी दफ्तर से बाहर नहीं निकली।
राज्य सरकार ने कोटा में नौकायन एकेडमी की घोषणा कर मुझे कोच नियुक्त किया था। मैं कोटा आया भी, लेकिन वहां संसाधन नहीं होने से बात आगे नहीं बढ़ सकी। काफी इंतजार के बाद मैंने नेशनल टीम को ट्रेनिंग देने का फैसला किया और साई से जुड़ गया। अभी नेशनल टीम को पूना हैदराबाद में ट्रेनिंग दे रहा हूं।
बजरंगलाल ताखर, नेशनल कोच, नौकायन
हां, नौकायन एकेडमी की घोषणा हुई थी, लेकिन भवन के अलावा बजट नहीं मिला। ऐसे में उपकरण आदि नहीं खरीदे जा सके। बाद में कोटा को फुटबॉल अकादमी मिल गई तो नौकायन अकादमी का भवन उसके लिए दे दिया गया। कोरोना काल को छोड़ दें तो फुटबॉल अकादमी अच्छा प्रदर्शन कर रही है।
-अब्दुल अजीज पठान, जिला खेल अधिकारी, कोटा

फैक्ट फाइल

09 साल पहले कोटा में खुली तो प्रदेश की पहली नौकायन एकेडमी

50 लाख का मिला था बजट,

05 साल बाद कोटा को मिली बालिका फुटबॉल अकादमी को दे दिया नौकायन अकादमी का भवन
ओलंपियन मेडलिस्ट बजरंगलाल ताखर को बनाया गया था पहला कोच

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.