कोटा के व्यापारी आखिर क्यों उतरे सड़कों पर, पढि़ए पूरी खबर

यूआईटी की ओर से दुकानें तोडऩे के विरोध में दिया धरना

By: Ranjeet singh solanki

Published: 25 Aug 2020, 05:31 PM IST

कोटा। कोटा। नगर विकास न्यास की ओर से गोबरिया बावडी अंडरपास के निर्माण के लिए जो दुकानें तोडऩी जानी है, उन पर लाल निशान लगा दिया है। दुकानें टूटने से डर से भयभीत व्यापारी आंदोलन पर उतर गए हैं। गोबरिया बावड़ी व्यापार संघ ने दुकानें बचाने तथा पुनर्वास की मांग को लेकर संघर्ष समिति के बैनर तले मंगलवार को यूआईटी गेट के बाहर धरना दिया। गोबरिया चौराहे पर और विकास पथ पर लगभग 140 दुकानें होगी प्रभावित। जिनमें 40 दुकानें पूरी तरह तोडऩे और 100 दुकानें आधी आधी तोडऩे के लिए यूआईटी ने निशान लगाकर खाली करने की चेतावनी दी है। व्यापारियों ने कहा कि कुछ लोगों की दुकानों को बचाने के लिए ले आउट प्लान में बदलाव किया गया है। पहले चौराहे पर 27 मीटर पर निशान लगाए थे, जिसमें दुकानदारों को ज्यादा नुकसान नहीं था और विकास पथ पर 19 मीटर पर निशान लगाए थे। विकास पथ पर कुछ प्रभावशाली लोगों की दुकानें आ रही थी जिनको बचाने के लिए साइड प्लान बदलकर विकास पथ पर 19 से 15 मीटर कर दिया। जिससे कांग्रेस पार्टी से जुड़े व्यापारियों की दुकानों को होने वाला आंशिक नुकसान बचा लिया और आम दुकानदार जो चौराहे पर पिछले 50 साल से अपने परिवार का पेट पाल रहा है वहां जो पहले 27 मीटर था उसे 33.50 मीटर तक बढ़ा कर दुकानदारों को रोड़ पर लाने की कोशिश कर रही है।

BJP Congress
Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned