एलडीसी परीक्षा : पूछा हाड़ौती के साथ कोटा का इतिहास, गणित व विज्ञान ने उलझाया

एलडीसी परीक्षा : पूछा हाड़ौती के साथ कोटा का इतिहास, गणित व विज्ञान ने उलझाया

Shailendra Tiwari | Publish: Sep, 09 2018 06:00:58 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड जयपुर की ओर से एलडीसी भर्ती के तीसरे चरण की परीक्षा रविवार को आयोजित की गई।

एलडीसी भर्ती के तीसरे चरण की परीक्षा

कोटा. राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड जयपुर की ओर से एलडीसी भर्ती के तीसरे चरण की परीक्षा रविवार को आयोजित की गई। कोटा में परीक्षा दो पारियों में हुई। पहली पारी सुबह 8 से 11 बजे तक चली। इसमें 87 परीक्षा केन्द्रों पर लगभग 30 हजार विद्यार्थी नामांकित हुए। पहली पारी में 19019 व दूसरी पारी में १८८८३ परीक्षार्थी शामिल हुए।
परीक्षा देकर आए अभ्यर्थियों ने बताया कि प्रथम पारी में सामान्य ज्ञान का पेपर सरल आया, लेकिन गणित व विज्ञान के कुछ सवालों ने उलझाया। यह पेपर 150 अंकों का था। इसमें 150 ही प्रश्न आए। इसमें राजस्थान से संबंधित ज्यादा प्रश्न पूछे गए। परीक्षा में हाड़ौती से संबंधित सवाल भी पूछे गए। इनमें दक्षिणी राजपूताना के छोटे राज्यों को एकीकृत करने के लिए किसने हाड़ौती संघ बनाने का प्रस्ताव दिया। बूंदी जिले की गरड़दा वृहद पेयजल योजना। कोटा में १८५७ के विद्रोह का नेेतृत्वकर्ता। वन्यजीव अभयारण्यों के बारे में भी सवाल पूछे गए।

वहीं दूसरी पारी में हिन्दी व अंग्रेजी विषय की परीक्षा हुई। जिसमें पेपर सामान्य आया। परीक्षा के लिए 15 सतर्कता दल गठित किए गए। इससे पहले अभ्यर्थियों के लिए ड्रेस कोर्ड लागू किया गया है। उसी के अनुसार अभ्यर्थियों को केन्द्रों पर प्रवेश दिया गया। सुबह 7 बजे से ही केन्द्रों पर अभ्यर्थियों की कतारें लग गई। उसके बाद तय समय पर अभ्यर्थियों को जांच कर केन्द्र में प्रवेश दिया गया।

कई परीक्षार्थियों को बनियान में देनी पड़ी परीक्षा

कई परीक्षार्थियों को बनियान में परीक्षा देनी पड़ी। तो कई के जूते मौजे तक खुलवा लिए। सिविल लाइंस स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय व अन्य कई परीक्षा केन्द्रों पर अभ्यर्थी पूरी बांह की शर्ट पहनकर आ गए। केन्द्र पर पूरी बांह की शर्ट पहनकर आने की अनुमति नहीं थी। इसके चलते कक्ष के बाहर ही परीक्षार्थियों की शर्ट उतरवा ली गई। कई अभ्यर्थियों ने बनियान में परीक्षा देनी पडी। अभ्यर्थियों के मौजे-जूते तक उतरवा लिए गए।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned