रेलवे की इस तकनीक से रोजाना लाखों यात्रियों को मिलेगी परेशानी से निजात...

पमरे ने सभी 35 एलएचबी पावर कार एचओजी तकनीकी से किए युक्त, डीजल जनरेटर की आवाज व धुंए से मिलेगा छुटकारा

कोटा. पश्चिम मध्य रेलवे द्वारा सभी 35 एलएचबी पावर कार एचओजी तकनीकी से युक्त कर दिए गए। इससे यात्रियों को डीजल जनरेटर की आवाज व धुंए से निजात मिलेगी।

जनसम्पर्क अधिकारी ने बताया कि एचओजी तकनीक से ट्रेन के सभी कोच में लाइट व एसी के लिए विद्युत आपूर्ति ओएचई से इलेक्ट्रिक लोको के माध्यम से की जाती है। इससे अब ट्रेन में पावर कार का जनरेटर चलाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। उन्होंने बताया कि एलएचबी रैक एचओजी तकनीकी से चलने पर प्रतिवर्ष करीब 34 करोड़ रुपए व 38 लाख लीटर डीजल की बचत होगी साथ ही पर्यावरण को भी फायदा होगा।

Read more : भाजपा कार्यकर्ताओ के लिए 6 घंटे रहेंगे अहम ,चूक गए तो नहीं मिलेगी कुर्सी....

अंत्योदय एक्सप्रेस में लगेंगे चार एलएचबी कोच

दरभंगा से अजमेर के बीच चलने वाली गाड़ी संख्या 15559. 15560 दरभंगा-अजमेर-दरभंगा एक्सप्रेस में के रैक में एलएचबी रैक में परिवर्तित कर दिए गए हंै। साथ ही 4 सामान्य श्रेणी के अतिरिक्त कोच स्थाई रूप से बढ़ा दिए गए।

Read more : हर महीने 10 हजार दो, फिर जैसे चाहो वैसे शराब बेचो.....

कोटा मंडल के लिए दो-दो पिकअप वैन उपलब्ध कराने पर बनी सहमति

जबलपुर मुख्यालय की स्थाई वार्ता तंत्र की बैठक में दूसरे दिन कई मुद्दों पर चर्चा हुई, साथ ही कई निर्णय लिए गए। वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन के महामंत्री मुकेश गालव ने बताया कि आर्टिजन कैटेगरी में एमसीएफ ग्रेड टेक्निशियंस के पदों को प्लॉट करने, एमसीएप 10 प्रतिशत टेक्निशियन ग्रेड 1, 2 व 3 में 10-10 पदों को फ्लोटिंग करने पर सहमति बनी। रेलवे में रि इंगेज पालिसी में विसंगतियों का मामला उठाया गया, जिस पर मुख्य कार्मिक अधिकारी एमआर गोयल ने पॉलिसी में संशोधन के लिए रेलवे बोर्ड भेजने पर सहमति दे दी। ट्रेकमैनों को अभी 35 किलो वजन के 5 औजारों को ड्यूटी के दौरान ले जाने की अनिवार्यता है। इस परेशानी को देखते हुए कोटा मंडल व जबलपुर मंडल के सभी वरिष्ष्ठ खण्ड इंजीनियर रेल पथ डिपो के लिए दो-दो पिकअप वैन उपलब्ध कराने पर सहमति बनी। रेलवे के समपार फाटकों पर कार्यरत गेटमैनों को सप्ताह में दो रेस्ट देने पर भी सहमति बन गई।

Dhirendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned