ट्रेक से भार कम हुआ तो ट्रेनें हो गई राइट टाइम

अप्रेल और मई 2021 में देशभर में ट्रेनों का औसत समय पालन 95.85 प्रतिशत रहा है। पश्चिम मध्य रेलवे में समय पालन 96.98 प्रतिशत और कोटा मंडल में 98.47 प्रतिशत रहा है। मालगाडिय़ों की रफ्तार में पिछले तीन माह से पश्चिम मध्य रेलवे देश में अव्वल है।

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 09 Jun 2021, 04:00 PM IST

कोटा. कोरोना संक्रमण के कारण वर्ष 2020 में लगे लॉकडाउन के कारण यात्री ट्रेनों का संचालन बंद रहा। इसके बाद वर्ष 2021 में भी बड़ी संख्या में गाडिय़ां निरस्त रहीं। इससे ट्रेक पर भार कम हुआ। रेलवे ने इस अवधि में ट्रेक के रख रखाव पर ध्यान दिया। कई स्थाई रफ्तार प्रतिबंध हटा दिए। इससे ट्रेनों की औसत रफ्तार में भी इजाफा हुआ। गाडिय़ां कम चलने से रास्ते में रोकना नहीं पड़ा। इससे देरी से चलने वाली ट्रेनें राइट टाइम हो गई। अप्रेल और मई 2021 में देशभर में ट्रेनों का औसत समय पालन 95.85 प्रतिशत रहा है। पश्चिम मध्य रेलवे में समय पालन 96.98 प्रतिशत और कोटा मंडल में 98.47 प्रतिशत रहा है। कोटा मंडल में समय पालन में वित्तीय वर्ष 2020-2021 में 7 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई। इस वर्ष समय पालन 97.21 प्रतिशत रहा। जबकि वर्ष 2019-2020 में समय पालन 90.74 प्रतिशत था। वहीं वित्तीय वर्ष 2020-21 में मई 2020 में श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को खाने पीने की व्यवस्था के लिए रास्ते में कई जगह रोका गया तो समय पालन की दर घटकर 51.2 प्रतिशत हो गई। इसके बाद वित्तीय वर्ष 2021-22 में अप्रेल-मई 2021 में समय पालन बढ़कर 98.47 प्रतिशत पर पहुंच गया। इस समय 98 प्रतिशत से ज्यादा ट्रेन समय पर पहुंच रही हैं। मालगाडिय़ों की औसत गति में भी कोटा मंडल ने वृद्धि दर्ज की है। वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अजयकुमार पर पाल ने बताया कि कोटा मंडल में इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार करने के परिणामस्वरूप माल गाडिय़ों की औसत गति इस वर्ष 55 किलोमीटर प्रति घंटे रही। जो कि पिछले साल की 43 किलोमीटर प्रति घंटे की तुलना में अधिक है। मालगाडिय़ों की रफ्तार में पिछले तीन माह से पश्चिम मध्य रेलवे देश में अव्वल है।

Show More
Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned