जानिए मकर संक्रांति और पतंग का कनेक्शन

Makar sankranti Special मकर संक्रांति पर्व का इंतजार केवल दान-पुण्य के लिए ही नहीं बल्कि

कोटा . मकर संक्रांति पर्व का इंतजार केवल दान-पुण्य के लिए ही नहीं बल्कि गजक-मूंगफली और पंतग उड़ाने के लिए भी किया जाता है। इस दिन का बेसब्री से इंतजार ब'चे, युवा और बुजुर्ग भी करते हैं क्योंकि इस दिन उन्हें दिल खोलकर पतंग उड़ाने का मौका जो मिलता है। बड़े-बूढ़े भी इस दिन ब'चों को पतंग उड़ाने से नहीं रोक पाते।

हम सभी के मन में मकर संक्रांति का मतलब पतंग का दिन से जानते हैं, क्या आप जानते हैं की आखिर संक्रांति से पतंगों का क्या रिलेशन है। नहीं न... हम बताते हैं संक्रांति पर क्यों उड़ाई जाती है पतंग...

आज पूरे भारत में मकर संक्रांति का पर्व हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है। बाजारों में तिल-गुड़, चूड़े, गजक-मूंगफली की भरमार है तो वहीं दूसरी ओर पतंगों की दुकानें भी सजी हुई हैं। लाल-पीली, हरी-गुलाबी तथा राजनेताओं व फिल्मी सितारों से से सजी पतंगों की दुकानें हर किसी का मन मोह रही है लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि मकर संक्रांति पर पतंग क्यों उड़ाते हैं और इसका इस त्योहार से क्या रिलेशन है।

पतंग हैं शुभ संदेश का वाहक

पतंग शुभ संदेश की वाहक है। मान्यता है कि पतंग खुशी, उल्लास, आजादी और शुभ संदेश की वाहक है, इस दिन से घर में सारे शुभ काम शुरू हो जाते हैं और वो शुभ काम पतंग की तरह ही सुंदर, निर्मल और उ'च कोटि के हों इसलिए पतंग उड़ाई जाती है।

नई सोच और शक्ति पतंग उड़ाने से दिल खुश और दिमाग संतुलित रहता है, उसे ऊंचाई तक उड़ाना और कटने से बचाने के लिए हर पल सोचना इंसान को नई सोच की प्रेरणा और शक्ति देता है। इस कारण पुराने जमाने से लोग पतंग उड़ा रहे हैं। रोशनी के लिए सर्दी के दिनों में सूरज की रोशनी बहुत जरूरी होती है इस कारण भी लोग पतंग उड़ाते हैं।

ऐसा माना जाता है मकर संक्रांति के दिन से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं। इस कारण लोग घंटो सूर्य की रोशनी में पतंग उड़ाते हैं, इसी बहाने उनके शरीर को विटामिन-डी भी मिल जाता है। धूप खांसी, जुकाम से भी बचाती है।

एकता का पाठ पढ़ाती है पतंग पतंग अकेले उड़ाई नहीं जा सकती है, एक इंसान मांझा पकड़ता है तो डोर किसी दूसरे के हाथ में होती है। एक छोटी सी पतंग लोगों को एकता का पाठ पढ़ाती है, यही नहीं पतंग के जरिए लोग हार-जीत का अंतर भी समझते हैं, वो भी बेहद प्यार से ।

Show More
Suraksha Rajora Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned