निर्धनों के लिए शुभदायी होगी मकर संक्रांति, गर्दभ बनेगा संक्रांति का वाहन,जानें सही तिथि और पूजा का शुभ मुहूर्त

Makar Sankranti 2020: घनु से निकलकर 15 जनवरी को मकर में प्रवेश करेंगे सूर्य देव,गधे पर सवार होकर आएगी संक्रांति

 

 

By: Suraksha Rajora

Updated: 06 Jan 2020, 06:35 PM IST

कोटा . इस बार दान-पुण्य का महापर्व मकर संक्रांति का त्यौहार 15 जनवरी को मनाया जाएगा। सूर्य देव 15 जनवरी रात 2:08 बजे उत्तरायण होंगे यानि सूर्य चाल बदलकर धनु से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करेंगे।यही वजह है कि सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होने का पर्व संक्रांति का पुण्य काल 15 जनवरी को सर्वाथ सिद्धि व रवि,कुमार योग का संयोग भी रहेगा।

इससे संक्रांति का पुण्यकाल 15 जनवरी बुधवार के दिन भर दान-पुण्य और स्नान किया जा सकेगा। मकर राशि में प्रवेश करते ही सूर्यदेव उत्तरायण हो जाएंगे। सूर्य के दक्षिणायान से उत्तरायण होते ही दिन भी बड़े होने लगेंगे। इसके साथ ही धनु मलमास भी समाप्त हो जाएगा।ओर मांगलिक कार्य शुरू होंगे।

ज्योतिषाचार्य अमित जैन ने बताया की इस बार संक्रांति का वाहन गर्दभ एवं उपवाहन बकरी होने से चोरी लूटपाट अपराधों में व्रद्धि होगी। लाल वस्त्र धारण किए पकवान का सेवन करते हुए मिट्टी का लेप किए हुए होने से खिलाड़ियों ,गरीब,वयोवृद्ध, महिलाओं, के लिये शुभफलदायी रहेगी।

मध्यरात को संक्रांति होने से होने से चोरों ,से सतर्क रहने को बनता है। वही सामाजिक सघर्ष, नए कानून बनने से जनता में असंतोष, हिसंक प्रदर्शन बढ़ेगे। तीस मुहूर्त में बैठी है जो गेहूं ,जो,चना,नारियल, शक्कर,,पत्थर,सीमेंट, लोहा ओर शेयर बाजार, में तेज होगी।

मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त-
पुण्यकाल: सुबह 07.19 से 12.31 बजे तक
महापुण्य काल - 07.19 से 09.03 बजे तक
मकर संक्रांति के दिन दान-दक्षिणा का विशेष महत्व-
ज्योतिष विद्वानों का कहना है कि इस दिन किया गया दान पुण्य और अनुष्ठान अभीष्ठ फल देने वाला होता है।

शनि की प्रिय वस्तुओं के दान से बरसती है कृपा-
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सूर्य देव जब मकर राशि में आते हैं तो शनि की प्रिय वस्तुओं के दान से भक्तों पर सूर्य की कृपा बरसती है। इस कारण मकर संक्रांति के दिन तिल निर्मित वस्तुओं का दान शनिदेव की विशेष कृपा को घर परिवार में लाता है। जानते हैं कि इस दिन राशि अनुसार किस चीज का दान करने से व्यक्ति को पुण्य फल की प्राप्ति के साथ उसका 100 गुना वापस मिलता है।

संक्रांति का राशियों पर प्रभाव

मेष धनलाभ
वृषभ मान यश
मिथुन विजय,
कर्क ख़र्चा बढेगा
सिंह भाग्य उदय
कन्या प्रोपर्टी लाभ
तुला धनलाभ
वृश्चिक विवाद
धनु प्रमोशन
मकर यश कीर्ति
कुंभ मान- सम्मान
मीन रोग पीड़ा

15 जनवरी से बजेगी शहनाइयां,

मकर संक्रांति के साथ ही मांगलिक कार्यों का शुभारंभ हो जाएगा। साल का पहला विवाह मुहूर्त 15 जनवरी को पड़ेगा। ज्योतिषाचार्य अमित जैन ने बताया कि सूर्य के धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करने के साथ ही विवाह, नूतन गृह प्रवेश, नया वाहन, भवन क्रय-विक्रय, मुंडन जैसे शुभ कार्य शुरू हो होंगे।

राशि के अनुसार करें दान-पुण्य-
मेष- तिल-गुड़ का दान दें, उच्च पद की प्राप्ति होगी।
वृष- तिल डालकर अर्घ्य दें, बड़ी जिम्मेदारी मिलेगी।
मिथुन- जल में तिल, दूर्वा तथा पुष्प मिलाकर सूर्य को अर्घ्य दें, ऐश्वर्य प्राप्ति होगी।
कर्क- चावल-मिश्री-तिल का दान दें, कलह-संघर्ष, व्यवधानों पर विराम लगेगा।
सिंह- तिल, गुड़, गेहूं, सोना दान दें, नई उपलब्धि होगी।
कन्या- पुष्प डालकर सूर्य को अर्घ्य दें, शुभ समाचार मिलेगा।
तुला- सफेद चंदन, दुग्ध, चावल दान दें। शत्रु अनुकूल होंगे।
वृश्चिक- जल में कुमकुम, गुड़ दान दें, विदेशी कार्यों से लाभ, विदेश यात्रा होगी।
धनु- जल में हल्दी, केसर, पीले पुष्प तथा मिल मिलाकर सूर्य को अर्घ्य दें, चारों-ओर विजय होगी।
मकर- तिल मिलाकर सूर्य को अर्घ्य दें, अधिकार प्राप्ति होगी।
कुंभ- तेल-तिल का दान दें, विरोधी परास्त होंगे।
मीन- हल्दी, केसर, पीत पुष्प, तिल मिलाकर सूर्य को अर्घ्य दें, सरसों, केसर का दान दें, सम्मान, यश बढ़ेगा।

Show More
Suraksha Rajora
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned