सिंह पर सवार होकर आएगी संक्रांति, दूसरे दिन होगा पुण्य काल

14 जनवरी को सांयकाल 7.28 बजे सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेगा

By: Dhirendra

Updated: 03 Jan 2019, 01:25 PM IST

कोटा. मकर संक्रांति 14 जनवरी को धूमधाम से मनाई जाएगी, लेकिन इस बार संक्रांति का पुण्य काल दूसरे दिन 15 जनवरी को रहेगा। ऐसे में दानपुण्य व जरूरतमंदों को वस्तुएं व खाद्य सामग्री बांटने के कार्य दूसरे दिन ही किए जाएंगे।

Read more : ये कैसे भक्त : वैष्णो देवी को चलन से बाहर पुराने नोट चढ़ा गए .....

इस बार मकर संक्रांति सिंह पर सवार होकर आ रही है। इसका वाहन ङ्क्षसह व उप वाहन हाथी है। 14 जनवरी को सांयकाल 7.28 बजे सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेगा। ऐसे में दूसरे दिन 15 जनवरी को इसका पुण्य काल माना जाएगा। इस दिन से ही देवताओं का दिन व दैत्यों की रात्रि मानी जाती है। भगवान सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण में आ जाते हैं। इसके साथ ही मांगलिक कार्यों की शुरुआत हो जाती है।

Read more : सरकार ने रातोंरात बदल दिए ये अफसर, जानिए किसको कहां लगाया.....
मिलेगा शुभ फल
चंद्रमा के अनुसार कर्क, ङ्क्षसह, तुला, धनु, कुंभ, मीन राशि वालों के लिए शुभ रहेगी। वहीं मेष, वृष, मिथुन, कन्या, वृश्चिक, मकर राशि वालों के लिए यह संक्रांति अशुभ रहेगी। मकर संक्रांति काल में तिल के व्यंजन, गायों को घास व गरीबों को उनी वस्त्र दान करने से पुण्य की प्राप्ति के साथ-साथ संक्रांति का अशुभ फल समाप्त हो जाता है। इस दिन शहर के मंदिरों में श्रद्धालु पहुंचकर विशेष पूजा अर्चना करेंगे।

Read more : नए साल में कोटा जंक्शन की बदल जाएगी सूरत, होटल, फूडकोर्ट से लेकर होंगी कई सुविधाएं....
यह रहेगी संभावना
संक्रांति का ईशान दृष्टि व उत्तर दिशा में गमन होने से उत्तराखण्ड व उत्तरीय प्रदेशों में पर्वत पतन, हिमपात जैसी प्राकृतिक आपदाओं की संभावना रहेगी। वाहन सिंह व उपवाहन गज होने से सिंह व हाथियों के साथ-साथ जंगली जानवरों की सुरक्षा व रोगों के प्रति सरकार व संबंधित अधिकारियों को सजग रहने की जरूरत होगी।

Read more : कोटा में कोचिंग स्टूडेंट्स को लेकर अब प्रशासन ने उठाया यह कदम.....
व्यापारियों को देगी सुख
संक्रांति का वार नाम ध्वांक्षी होने से स्वतंत्र कार्यकारक, आयात निर्यात, उद्योग संचालक व व्यापारीगण के लिए यह संक्रांति लाभ दायक है। वहीं नक्षत्र नाम ध्वांक्षी होने से आयात निर्यात कर्ता शेयर बाजार, उद्योगपति, व्यापारीगण को भी सुख देने वाली रहेगी। रात को प्रदोषकाल व्यापिनी होने से देशद्रोही, भ्रष्ट पथी, समाजकंटक, आतंकवादी, विस्फोटक, हिंसक व असामाजिक तत्वों को कष्ट देने वाली रहेगी। यह संक्रांति ईशान दिशा को देखती हुई उत्तर दिशा में जा रही है। संक्रांति तीस मुहूर्त में बैठी होने से सुगंधित पदार्थ, चावल, कंद मूल पदार्थ, सूत, कपास, सोना चांदी व सफेद रंग की वस्तुओं में तेजी की संभावना रहेगी।
राशियों पर सूर्य संक्रांति का प्रभाव
मेष - कार्य सिद्धी
वृष - कांती क्षय
मिथुन - कष्ट
कर्क - गमन
सिंह - शत्रु नाश
कन्या - दरिद्रता
तुला - मान भंग
वृश्चिक - लाभ
धनु - भय
मकर - स्थान नाश
कुंभ - रोग नाश
मीन - वित्त लाभ

Dhirendra Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned