भर्ती मरीज को बैठा दिया वार्ड के बाहर

भर्ती मरीज को बैठा दिया वार्ड के बाहर

shailendra tiwari | Publish: Sep, 02 2018 06:39:14 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

मोबाइल में व्यस्त रहा, इलाज नहीं किया एक घंटे अधीक्षक ने समझाइश कर वापस वार्ड में
भर्ती कराया कमेटी गठित, जांच के निर्देश

कोटा. संभागीय आयुक्त से रात में दुव्र्यवहार करने के बाद मिली फटकार और सद्व्यवहार की हिदायतें एमबीएस अस्पताल से फुर्र हो गई हैं। अस्पताल में शनिवार को फिर एक नर्सिंग स्टाफ की लापरवाही सामने आई है। नर्सिंग स्टाफ की बेरूखी से मरीज को करीब एक घंटे तक अस्पताल के बाहर बैठना पड़ा। मामला बिगड़ता देख अस्पताल अधीक्षक ने समझाइश कर मरीज को वापस वार्ड में भर्ती करवाया और मामले की जांच की बात कही।

SC-ST एक्ट : सांसद कार्यालय का घेराव, चूडिय़ां फेंक जताया विरोध


दरअसल, नयागांव निवासी बुजुर्ग लक्ष्मीनारायण को तीन दिन पहले मेडिकल बी वार्ड में भर्ती कराया गया था। शनिवार को उसकी जांचें होनी थी। मरीज के परिजनों ने वार्ड में मौजूद नर्सिंग स्टाफ से सैम्पल लेने को कहा। परिजनों का आरोप है कि वार्ड में मौजूद नर्सिंग स्टाफ मोबाइल में व्यस्त था। बार-बार आग्रह करने पर भी उसने मरीज का सैम्पल नहीं लिया। उलटे मरीज को अस्पताल से वापस ले जाने की बात कही और दुव्र्यवहार किया। नर्सिंग स्टाफ व गार्ड के व्यवहार से मरीज व तीमारदार घबराकर वार्ड से बाहर आ गए। परिजनों ने बुजुर्ग मरीज को अस्पताल के गेट के बाहर लेटा दिया। करीब एक घंटे तक वह बिना इलाज के बाहर पड़ा रहा। इस दौरान परिजनों ने अस्पताल अधीक्षक डॉ. नवीन सक्सेना से नर्सिंग स्टाफ द्वारा किए गए दुव्र्यवहार की शिकायत की। अस्पताल अधीक्षक नवीन सक्सेना ने मामले को गंभीरता से लेते हुए परिजनों से समझाइश की और मरीज को वापस वार्ड में भर्ती कराया। साथ ही, मामले की जांच के लिए कमेटी का गठन किया। उन्होंने बताया कि जांच में जो भी दोषी होगा। उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

 

Prev Page 1 of 2 Next

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned