सीवरेज के खुले चैम्बर में गिरा बालक, हादसे के बाद भी अस्पताल प्रशासन ने नहीं ली सुध

Haboo Lal Sharma

Updated: 18 Jul 2019, 08:26:08 PM (IST)

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. संभाग के सबसे बड़े एमबीएस अस्पताल में जिस ओर देखे, उस ओर अव्यवस्थाओं का आलम है। इलाज कराने के लिए तो मरीज-तीमारदार को रोजाना कई अव्यवस्थाओं से दो-चार होना पड़ता है, लेकिन यहां आकर किसी हादसे का शिकार हो जाएं तो कोई बड़ी बात नहीं।
एमबीएस में जगह-जगह सीवरेज चैम्बर खुले पड़े हैं। इनमें गिरकर कोई भी चोटिल हो सकता है। पिछले दिनों यहीं के एक कर्मचारी का बेटा गिरकर घायल भी हो चुका है, लेकिन इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। साथ ही, जगह-जगह भरे गंदे पानी में पैदा हुए मच्छरों से बीमारियां फैलने का खतरा भी यहां मंडरा रहा है। अस्पताल में खुले पड़े कुछ सीवरेज चैम्बरों का अस्पताल प्रशासन ने ढकान करवाया, लेकिन इसमें भी ठेकेदार ने कमजोर पत्थर से ढकान कर दिया। यदि भूल से कोई व्यक्ति इन पर खड़ा हो जाए तो गिरकर घायल हो सकता है। ठेकेदार ने कई चैम्बरों पर पानी की टंकी वाले ढक्कन रखकर खानापूर्ति कर दी।
अस्पताल के पार्क में सीवरेज लाइन के करीब तीन चैम्बर हैं। इनकी गहराई दस से पन्द्रह फीट है। इस पार्क में कुछ दिन पहले ही खेलते समय कैंटीन के कर्मचारी अमरसिंह का बेटा महेन्द्र सिंह गिर गया। उसके दोस्तों की नजर पड़ी तो उन्होंने तुरन्त बाहर निकाला। वह चैम्बर में जमा मलबे में गले तक फंस गया था।

सफाई कर्मी से कचरा उठाने को कहा तो कर दिया इतना हंगामा की बुलानी पड़ी पुलिस, अधिकारियो को जोड़ने पड़े हाथ


अस्पताल में इमरजेंसी के मुख्य द्वार के सामने आम लोगों के लिए नल लगाकर पानी की व्यवस्था कर रखी है। इसके पास ही नालियों व सीवरेज का गंदा पानी कई दिनों से जमा है। इस पानी में मच्छर पैदा हो रहे हैं। पुरानी पार्किंग के पास नालियों का गंदा पानी जमा है। इस बारे में लोगों ने अधीक्षक को कई बार लिखित में दिया, लेकिन कुछ नहीं हुआ।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned