कोटा मंडल में दौड़ेगी मेमो, स्टेशन के विस्तार के लिए मिली राशि

कोटा स्टेशन पर यात्री सुविधाओं के विकास के लिए 22 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। इसके अलावा आईआरएसडीसी को कोटा स्टेशन को विकसित करने की जिम्मेदारी भी दी गई है।

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 17 Mar 2021, 12:54 AM IST

लोकसभा अध्यक्ष बिरला के प्रयासों से संसदीय क्षेत्र के कई स्टेशनों का होगा विकास

कोटा. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों से संसदीय क्षेत्र कोटा-बूंदी के कई रेलवे स्टेशनों की सूरत जल्द निखरेगी। बिरला की कोशिशों से जहां डकनिया स्टेशन पर 2 लूप लाइन बिछाने के लिए रेलवे ने 28.5 करोड़ रुपए स्वीकृत कर दिए हैं। वहीं स्टेशन की दशा सुधारने के लिए भी 11 करोड़ रुपए अलग से दिए हैं।
लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने गत 5 फरवरी को रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ कोटा-बूंदी संसदीय क्षेत्र में रेल सुविधाओं को लेकर समीक्षा बैठक की थी। इस दौरान बिरला ने कोटा, डकनिया सहित क्षेत्र के कई अन्य स्टेशनों पर कार्यों की आवश्यकता की जानकारी दी थी। बिरला ने उन कार्यों के बारे में भी बताया था, जो राशि जारी नहीं होने के कारण अटके हुए हैं। बैठक के बाद रेल मंत्री ने कोटा-बूंदी क्षेत्र की आवश्यकताओं को प्राथमिकता से लेते हुए कई स्टेशनों के लिए राशि स्वीकृत कर दी है।

कोटा स्टेशन के लिए 22 करोड़

कोटा स्टेशन पर यात्री सुविधाओं के विकास के लिए 22 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। इसके अलावा आईआरएसडीसी को कोटा स्टेशन को विकसित करने की जिम्मेदारी भी दी गई है। आईआरएसडीसी डकनिया तलाब स्टेशन को विकसित करने का काम भी देखेगा। इन दोनों स्टेशनों के समयबद्ध विकास की निगरानी के लिए रेल मंत्री ने अधिकारियों को विशेष ध्यान रखने के निर्देश भी दिए हैं।

मेमो के दो रैक मिले, दो और आएंगे
कोटा के आसपास के क्षेत्रों में यात्रियों के आवागमन को सुलभ बनाने के लिए मेमो ट्रेन जल्द दौडऩे लगेगी। रेल मंत्रालय ने फरवरी में 8-8 डिब्बों वाली मेमो ट्रेन के दो रैक कोटा मंडल को दे दिए हैं। आईसीएफ चेन्नई से 8-8 डिब्बों वाली मेमो ट्रेन के दो और रैक जल्द मिलने की संभावना है।

अप्रेल में पूरा होगा सोगरिया स्टेशन

डकनिया के अलावा कोटा के एक और सेटेलाइट स्टेशन के तौर पर विकसित किए जा रहे सोगरिया रेलवे स्टेशन का काम अगले माह 15 अप्रैल तक पूरा कर लिया जाएगा। कोटा-बीना दोहरीकरण कार्य के तहत इस स्टेशन के विकास के लिए 10 करोड़ रुपए व्यय किए गए हैं।

आठ स्टेशनों पर फुट ओवर ब्रिज

कोटा मंडल के 8 स्टेशनों पर फुट ओवर ब्रिज का निर्माण भी जनवरी 2022 तक हो जाएगा। गुरड़ा में फुट ओवरब्रिज मई 2021 तक, घाट का बराना में जुलाई 2021, अलनिया व रावठा रोड पर नवंबर 2021, लबान, अरनेठा और कापरेन में दिसंबर 2021 तथा कंवलपुरा में जनवरी 2022 तक फुट ओवर ब्रिज का काम पूरा कर लिया जाएगा।

कोच तलाशने में नहीं होगी दिक्कत

कोटा-बूंदी संसदीय क्षेत्र के 5 रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों को अब कोच तलाशने में दिक्कत नहीं आएगी। कोटा, डकनिया तलाव, इंद्रगढ़, सुमेरगंजमंडी, लाखेरी व बूंदी स्टेशन पर 1.6 करोड़ की लागत से कोच गाइडेंस सिस्टम लगाए जाएंगे। इसके अलावा कोटा व रामगंजमंडी स्टेशन के फुटओवर ब्रिज पर 18 लाख रुपए की लागत से ट्रेन डिस्प्ले सिस्टम भी लगाए जाएंगे।

तीन अन्य स्टेशनों पर 4 करोड़ के काम
कोटा जिले के दीगोद, कल्याणपुरा और इंद्रगढ़-सुमेरगंजमंडी स्टेशन पर भी करीब 4 करोड़ के विकास कार्य होंगे। इंद्रगढ़-सुमेरगंजमंडी स्टेशन पर 1.8 करोड़ रुपए के कार्य होंगे, जिनके टेंडर अंतिम चरण में हैं। दीगोद व श्रीकल्याणपुरा में स्टेशन से मुख्य मार्ग तक सीसी रोड का निर्माण करवा दिया गया है। दोनों स्टेशनों पर यात्री सुविधाओं के विकास पर दो करोड़ और खर्च किए जाएंगे।

Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned