एक दिन के लिए थमे निजी बसों के पहिए

कोटा. टैक्स माफ करने समेत अन्य मांगों को लेकर निजी बस संचालकों ने गुरुवार को बसों के पहिए जाम कर दिए। न निजी सिटी बसें चलीं, न ही अन्य शहरों में गई। इससे यात्रियों को अन्य साधनों से यात्रा करनी पड़ी। निजी बसों के बंद रहने से बस संचालकों को एक दिन में करीब 30 लाख का नुकसान हुआ।

 

By: Hemant Sharma

Updated: 22 Jul 2021, 10:51 PM IST

कोटा. टैक्स माफ करने समेत अन्य मांगों को लेकर निजी बस संचालकों ने गुरुवार को बसों के पहिए जाम कर दिए। न निजी सिटी बसें चलीं, न ही अन्य शहरों में गई। इससे यात्रियों को अन्य साधनों से यात्रा करनी पड़ी। निजी बसों के बंद रहने से बस संचालकों को एक दिन में करीब 30 लाख का नुकसान हुआ।

बस मालिक संघ कोटा संभाग अध्यक्ष व राजस्थान बस ऑनर एसोसिएशन के महासचिव सत्यनारायण साहू ने बताया कि एक दिन की सांकेतिक हड़ताल कर सरकार को चेताया है। अब 26 जुलाई तक सरकार ने मांगें नहीं मानी तो आगे की रणनीति तय कर अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।

इससे पहले बस मालिकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने साहू की अगुवाई में परिवहन अधिकारी को ज्ञापन देकर बसों की चाबियां सौंपी। विभाग के आस-पास दूर तक बसों की लाइनें लग गई। यहां ज्ञापन देने के बाद मुख्यमंत्री के नाम जिला कलक्टर को भी ज्ञापन दिया। संघ के अकील पठान, ट्रैवल एजेंसी के अध्यक्ष अशोककुमार चांदना, महासचिव विजेन्द्र कुमार गुप्ता समेत अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

बस संचालकों की यह मांगें

संघ के पदाधिकारियों के अनुसार एक वर्ष का टैक्स माफ करने, किराए में 40 प्रतिशत की वृद्धि करने, स्टेट केरीज बसों को सीएनजी में बदलने के लिए बिना ब्याज के 3 लाख का ऋण दिलवाने, बिना शर्त बसें सरेंडर करने समेत संचालकों की चार मांगे हैं।

100 करोड़ का नुकसान

बस संचालकों के अनुसार एक दिन की हड़ताल से संचालकों को जिले में करीब 30 लाख व प्रदेश में 100 करोड़ का नुकसान हुआ है। सरकार को भी पेट्रोल-डीजल से मिलने वाले राजस्व का नुकसान हुआ है। जिले में करीब 750 व प्रदेश में सभी मिलाकार करीब 29 हजार बसें हैं।

इधर रोडवेज का फायदा

निजी बसों के बंद होने से रोडवेज बसों की चांदी रही। दिनभर बसों में भीड़भाड रही। लोगों को इंतजार करना पड़ा। विभाग ने कोटा व बारां में अतिरिक्त बसों का संचालन किया। हालांकि डिपो के मुख्य प्रबंधक रघुराज सिंह राजावत के अनुसार इस बारे में रिपोर्ट बनने के बाद ही पता चल सकेगा, लेकिन नयापुरा बस स्टैंड प्रभारी नासिर अली के अनुसार अन्य दिनों की अपेक्षा करीब 2 लाख से ढाई लाख रुपए का फायदा होने का अनुमान है।

Hemant Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned