दक्षिण निगम ने शुरू की धरपकड़, उत्तर निगम हाथ पर हाथ धरे बैठा

कोटा शहर में आवारा मवेशियों की समस्या साबित हो रही है जानलेवा

By: Ranjeet singh solanki

Published: 07 Sep 2020, 04:46 PM IST

कोटा. कोटा दक्षिण नगर निगम की ओर से आवागमन के मार्गों, बाजारों व सार्वजनिक स्थानों पर खुले विचरण वाले मवेशियों को पकडऩे का अभियान पांच दिन से चला रखा है। अब तक 99 मवेशियों को पकड़ कर कायन हाउस में बंद कर दिया गया है। प्राधिकारी कीर्ति राठौड़ ने बताया कि पकड़े जाने वाले मवेशियों को काऊ केचर वाहनों के जरिए किशोरपुरा स्थित कायन हाउस लाकर रखा जा रहा है। निगम दस्ते ने 2 सितम्बर को दादाबाड़ी छोटा चौराहा क्षेत्र से कुल 7 मवेशी, 3 को जवाहर नगर, सीएडी सर्किल, दादाबाड़ी व तलवंडी इलाके से 30 मवेशी, 4 को केशवपुरा, शिवपुरा, श्यामनगर क्षेत्र से 21, 5 सितम्बर को श्रीनाथ पुरम फायर स्टेशन क्षेत्र से 19 तथा रविवार को गोबरिया बावड़ी, एरोड्राम सर्किल क्षेत्र व दादाबाड़ी से 22 मवेशी सार्वजनिक स्थानों से पकड़े हैं। प्राधिकारी ने बताया कि मवेशियों को पकडऩे का अभियान निरन्तर जारी रहेगा। उन्होंने पशु पालकों से आग्रह किया कि वे अपने पशुओं को बाडों में बांध कर रखें। खुले में अपने पशुओं को घूमने के लिए छोडऩे वाले पशु पालकों के विरुद्ध भी निगम की ओर से कार्रवाई की जाएगी। दक्षिण नगर निगम ने तो आवारा मवेशियों की धरपकड़ शुरू कर दी है, लेकिन उत्तर नगर निगम की ओर से अभी तक इस दिशा में कोई काम शुरू नहीं किया गया है। जबकि आवाराा मवेशियों की समस्या उत्तर नगर निगम में ज्यादा है। पिछले दिनों दो युवक नयापुरा सर्किल के पास आवारा सांडों की लड़ाई में चपेट में आने पर बुरी तरह घायल हो गए थे। उधर उत्तर निगम आयुक्त वासुदेव मालावत का कहना है कि आवारा मवेशियों को पकडऩे की संयुक्त कार्रवाई की जाएगी।

Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned