बिना सुरक्षा ट्रेक पर काम नहीं करेंगे रेलकर्मी

Shailendra Tiwari

Publish: Nov, 10 2018 06:39:59 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 06:42:20 PM (IST)

Kota, Rajasthan, India

कोटा. रेलवे ट्रेक और कार्यस्थल पर संरक्षा से जुड़ा कोई भी कार्य करते समय विशेष सावधानी रखने के लिए रेलवे बोर्ड ने नई एडवाइजरी जारी की है। इसके अनुसार ट्रेक पर जरूरत के अनुसार मानव शक्ति लगानी होगी। पर्यवेक्षक और कार्मिकों को बिना सुरक्षा इंतजाम के ट्रेक पर कार्य के लिए मजबूर नहीं किया जा सकेगा। संरक्षा कारणों से ट्रेक पर फ्लैग लगाए जाने के बाद कार्मिकों को कोई अधिकारी या पर्यवेक्षक किसी भी तरह से प्रताडि़त नहीं करेगा। कार्य स्थल पर इसका उल्लंघन करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। रेलवे सूत्रों ने बताया कि ट्रेक पर कार्य करते समय रनओवर होने की घटनाओं को रोकने के लिए रेलवे बोर्ड ने यह एडवाइजरी जारी की है। इस माह 1 और 2 नवम्बर को रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष की मौजूदगी में कोटा में हुए ऑल इंडिया रेलवेमेंस फेडरेशन के अविधेशन में रेलवे सुरक्षा से जुड़ा मसला भी उठाया गया। इस अधिवशेन के बाद रेलवे बोर्ड ने यह एडवाइजरी जारी की है। रेलवे एम्लाइज यूनियन के मंडल अध्यक्ष एस.के. भार्गव ने बताया कि देशभर में हर साल 800 से 1 हजार रेलकर्मी कार्य के दौरान ट्रेन से कट रहे हैं। इनमें इंजीनियरिंग, सिग्नल, परिचालन विभाग के कार्मिक शामिल हैं। उन्होंने बताया कि ऑल इंडिया रेलवेमेंस फेडरेशन ने 11 दिसम्बर 2018 से वर्क टू रूल कार्य करने का ऐलान किया है। इसके बाद चालक और गार्ड के कार्य घंटे पूरे होते ही नजदीक के स्टेशन पर ट्रेन को खड़ा कर दिया जाएगा। फेडरेशन की मांग के बाद रेलवे बोर्ड ने यह एडवायजरी जारी की है। इसके अलावा रेलवे बोर्ड से पुरस्कृत होने वाले कार्मिकों को पत्नी के साथ कार्यक्रम स्थल पर जाने के लिए एसी श्रेणी का यात्रा पास भी उपलब्ध कराया जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned