अब नर्सिंग अधीक्षक पर गिरी गाज, पद से हटाया

जेके लोन अस्पताल में नवजात बच्चों की मौत के बाद सरकार लगातार एक्शन मोड पर है। अधीक्षक व शिशु रोग विभाग के एचओडी को हटाने के बाद मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने बुधवार को आदेश जारी कर जेके लोन अस्पताल के नर्सिंग अधीक्षक रामरतन मीणा को भी पद से हटा दिया है।

 

 

By: Abhishek Gupta

Published: 16 Dec 2020, 11:02 PM IST

कोटा. जेके लोन अस्पताल में नवजात बच्चों की मौत के बाद सरकार लगातार एक्शन मोड पर है। अधीक्षक व शिशु रोग विभाग के एचओडी को हटाने के बाद मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने बुधवार को आदेश जारी कर जेके लोन अस्पताल के नर्सिंग अधीक्षक रामरतन मीणा को भी पद से हटा दिया है। मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. विजय सरदाना ने बताया कि एमबीएस अस्पताल के नर्स ग्रेड प्रथम मंसूर अली को जेके लोन अस्पताल का नर्सिंग अधीक्षक प्रथम लगाया। द्वितीय नर्सिंग अधीक्षक पद पर एमबीएस अस्पताल से ही नर्स ग्रेड प्रथम मंसूर अली को लगाया। निवर्तमान नर्सिंग अधीक्षक रामरतन मीणा को रामपुरा जिला अस्पताल में लगाया है। वहीं, रामपुरा जिला अस्पताल में पदस्थापित नर्स ग्रेड प्रथम बृज बिहारी शर्मा को एमबीएस अस्पताल में लगाया है।

कल बदले थे अधीक्षक व एचओडी

गौरतलब है कि जेके लोन अस्पताल में 10 दिसम्बर को 8 घंटे में 9 नवजात बच्चों की मौत के मामले में राज्य सरकार ने पांच दिन बाद अस्पताल अधीक्षक डॉ. एससी दुलारा को हटाया। उनकी जगह फ ोरेंसिंक मेडिसिन के एचओडी डॉ.अशोक मूंदड़ा को नया अधीक्षक बनाया था, फि र पीडियाट्रिक विभाग के एचओडी डॉ. अमृतलाल बैरवा को हटाकर उनकी जगह डॉ.अमृता मयंगर को पीडियाट्रिक्स का एचओडी बनाया गया था।

Abhishek Gupta
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned