चहेतों को लाभ पहुंचाने में अधिकारी कर रहे गड़बड़झाला

निविदा की प्रक्रिया ऑफलाइन, नहीं दे रहे अन्य संवदेक को कॉपी

By: Anil Sharma

Published: 22 Sep 2021, 11:34 PM IST

रामगंजमंडी. सार्वजनिक निर्माण विभाग की तरफ से सरकारी मद से होने वाले निर्माण कार्य के लिए निविदाएं आमंत्रित की जाती है। राज्य सरकार की तरफ से इसकी गाइडलाइन तय है। विभाग समाचार पत्रों में इसका प्रकाशन भी करवाता है। इसके अतिरिक्त निर्माण विभाग की वेबसाइड पर भी इसको डाला जाता है। ताकि संबंधित संवेदक निविदा प्रक्रिया में भाग ले सके।
यह सारी प्रक्रिया संबंधित विभाग के अधिकारी के अधीन होती है। ऐसे में वह चाहे तो टेन्डर कॉपी मांगने वाले संवेदक को इसकी प्रति उपलब्ध कराए या नहीं। चहेतों को लाभ पहुंचाने के प्रयास में होने वाली इस सारी कार्यवाही का मामला बुधवार को पत्रिका के सामने उजागर हुआ। इस बारे में संबंधित अधिकारी से पूछा गया तो उनसे जवाब देते नहीं बना।
मामले के अनुसार निर्माण विभाग ने रामगंजमंडी उपखंड में होने वाले 35 लाख 67 हजार रुपए के निर्माण कार्य की आठ बिन्दुवार सूची का प्रकाशन किया था। विभाग की वेबसाइड पर भी सूची डाली गई। संवेदक जब टेन्डर कॉपी मांगने अधिशाषी अभियंता कार्यालय पहुंचा तो अधिशाषी अभियंता मनोज माथुर ने निविदा कॉपी चुनिंदा ठेकेदार को सौंपने की बात कहते हुए प्रति देने से इंकार कर दिया।

सरकारी गाइडलाइन की अवहेलना
सरकार की गाइड लाइन में एक निश्चित राशि से ज्यादा का निर्माण कार्य करवाने पर निविदा प्रक्रिया आमंत्रित करने का प्रावधान है। पारदर्शिता बरतने के लिए इस तरह की प्रक्रिया को अमल में लाया जाता है। निविदा की सारी प्रक्रिया ऑफ लाइन होने के कारण संबंधित अधिकारी पर यह निर्भर रहता है कि वह किसी कार्य की प्रति संवेदक को दे और किसको नहीं। अधिकारी इसका फायदा उठाकर अपने चहेतों को उपकृत्त करने का प्रयास करते है। 16 लाख के निर्माण कार्य की टेन्डर कॉपी इसी कारण विभाग से रजिस्टर्ड संवेदक को नहीं दी गई।

यहां होने है कार्य
नगर में उपजिला कलक्टर कार्यालय की मरम्मत के लिए 4 लाख 73 हजार, उप जिला कलक्टर आवासमरम्मत कार्य के लिए 1 लाख 54 हजार, जिला परिवहन अधिकारी कार्यालय केअधूरे निर्माण कार्य के लिए 4 लाख 90 हजार, रामगंजमंडी की डी एल पी व नोनडी एल पी सड़क मरम्मत के लिए 4 लाख 90 हजार रुपए की राशि के कार्य होने प्रस्तावित है।

पहले से ही कर रहा है निर्माण कार्य
फर्म गौरव कंट्रेक्शन के प्रतिनिधि ने इसकी सूचना राजस्थान पत्रिका संवाददाता को दी। इस पर संवाददाता ने अधिशाषी अभियंता से फोन पर वार्ता कर निविदा कॉपी नहीं देने की बात कही। बदले में उन्होंने संबंधित संवेदक को उनके पास भेजने की बात कही। इस पर संवेदक दुबारा वहां पहुंचा, फिर भी उसे निविदा की प्रति नहीं सौपी। अंतत: जब पत्रिका संवाददाता ने अधिशाषी अभियंता से पूछा आखिर मामला क्या है। तब उन्होंने कहा कि वहां पहले से ही निर्माण कार्य चल रहा है। ऐसे में उसी संवेदक को पुन: ठेका दे दिया है। वह अच्छा कार्य करेंगा। इस भावना को ध्यान में रखकर उसे निविदा कॉपी दी गई। नए संवेदक को इस कारण कॉपी नहीं दी।

Anil Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned