पहले बेटे को किडनी और अब आंखें कर गए दान

हरसौरा समाज को दे गए अंगदान-नेत्रदान का संदेश

Suraksha Rajora

November, 2109:16 PM

कोटा. बसंत विहार निवासी जैनेन्द्र हरसौरा (62) का बुधवार रात को जयपुर में निधन हो गया। मृत्युपरांत उनका नेत्रदान हुआ। अंत समय में वह समाज को अंगदान-नेत्रदान का संदेश दे गए। सुबह शाइन इंडिया फाउण्डेशन ने उनके सबसे छोटे भाई प्रधुम्न कुमार जैन से सम्पर्क साधा।

कांग्रेस राज में गुंजल के खिलाफ मामला दर्ज,भाजपा राज में मंत्री की मौजूदगी में किया था जातिगत शब्दों से अपमानित

उन्होंने उनके बेटे जितेंद्र व पत्नी कमला से नेत्रदान की सहमति दी। सुबह उनके निवास पर आई बैंक सोसायटी के तकनीशियन ने नेत्रदान लिया। जैनेंद्र हरसौरा जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड से वर्ष 2003 में सेवानिवृत्त हुए थे।

शादी से दो दिन पहले आई आफत, दूल्हे को हुआ डेंगू तो चढ़ानी पड़ी एसडीपी

दिगम्बर जैन मंदिर बसंत विहार में पदाधिकारी भी रहे। 2008 में उत्कृष्ट कार्य के लिए समाज की ओर से उन्हें सम्मानित किया था। 2012 में उनके बेटे जितेंद्र की दोनो किडनियों ने काम करना बंद कर दिया था। चिकित्सकों ने किडनी ट्रांसप्लांट के लिए कहा तब इन्होंने अपने बेटे को अपनी एक किडनी की।

Show More
Suraksha Rajora
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned