शाहाबाद की घाटी में कार सवार युवकों को दिखा पैंथर!

वन कर्मचारियों ने शुरू किया सर्च अभियान: वीडियो बनाने वाले युवक कर रहे बाघ होने का दावा

 

By: mukesh gour

Published: 28 Oct 2020, 12:01 AM IST

शाहाबाद/बारां. जिले के आदिवासी बहुल शाहाबाद उपखंड क्षेत्र में मंगलवार देर शाम को बाघ देखे जाने के एक युवक के दावे व उसके द्वारा वायरल किए वीडियो से क्षेत्र के लोगों में उत्सुकता के साथ भय का माहौल भी व्याप्त हो गया। वन विभाग के अधिकारी रात तक वन्य जीव के बाघ अथवा तेंदुआ (पैंथर) होने को लेकर कुछ भी स्पष्ट नहीं कर सके। विभागीय अधिकारियों का कहना है गत वन्यजीव गणना में शाहाबाद की घाटी में दो पैंथर की मौजूदगी प्रमाणित हुई थी। शाहाबाद के क्षेत्रीय वन अधिकारी मोहम्मद हाफिज ने बताया कि राजकुमार व एक अन्य देर शाम को कार से देवरी की ओर जा रहे थे। उन्हें शाहाबाद के निकट घाटी के पिंडासिल मोड़ के किनारे पर यह वन्य जीव नजर आया। इनमें एक युवक का दावा है कि वह बाघ था, लेकिन अंधेरा घिर आने व उसके घाटी में चले जाने से अभी उसके बाघ अथवा पैंथर होने की पुष्टि नहीं की जा सकती। रात करीब साढ़े नौ बजे वन कर्मियों के साथ हाफिज मौके पर थे, जहां वे वन्य जीव के पगमार्क लेने तथा उसकी तलाश में जुटे थे। उन्होंने बताया कि इस वन्य जीव के पैंथर होने की संभावना अधिक है। लेकिन युवकों ने वन्य जीव के बाघ होने का दावा किया है। ऐसे में इस संभावना को भी टटोला जा रहा है कि कहीं यह वो बाघ तो नहीं, जो अरसे से मुकुन्दरा टाइगर हिल्स से गायब है। इसके अलावा इस घाटी से मध्यप्रदेश की कुुनु पालपुर की सेंचुरी है। जहां बाघों का बसेरा है।

read also : Success Story : गुदड़ी का लाल चेतन बनेगा डॉक्टर
पगमार्क में दिक्कत
जिस जगह यह वन्य जीव नजर आया वो पूरा पहाड़ी क्षेत्र है। ऐसे में रात को मौके पर पगमार्क की तलाश में भी मुश्किल आ रही है। पठारी क्षेत्र में वैसे भी वन्य जीव के पगमार्क सुरक्षित आसान नहीं है। हाफिज ने बताया कि रात होने से अब सर्च अभियान को जारी रखना मुश्किल हो रहा है।

read also : कोटा उत्तर निगम : 225 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे 3.32 लाख मतदाता
यह है युवकों का दावा
वन्य जीव को देख मोबाइल कैमरे से उसका अस्पष्ट वीडियो शूट करने वाले युवकों के अनुसार यह जीव पीले रंग का था तथा उसके शरीर पर काली धारिया थी। इसी आधार पर वे उसके बाघ होने को लेकर आश्वस्त हैं। लेकिन वन अधिकारियों का कहना है कि इसके प्रमाण मिलने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

read alao : पैर की तकलीफ से उबर रही है बाघिन

शाहाबाद वन क्षेत्र में कई बरसों से पैंथर की मौजूदगी प्रमाणित हो रही है। ऐसे में इस वन्य जीव के पैंथर होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। वायरल वीडियो में प्रथमदृष्टया यह पैंथर लग रहा है। लेकिन पगमार्क मिलने के बाद इस वन्य जीव के पैंथर अथवा बाघ होने की पुष्टि की जा सकेगी।
दीपक गुप्ता, उप वन संरक्षक, बारां

Show More
mukesh gour
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned