बांग्लादेश का सुल्तान अब 'राजा बड़ौदा, पुलिस बेखबर

बांग्लादेश का सुल्तान अब 'राजा बड़ौदा, पुलिस बेखबर

shailendra tiwari | Publish: Jun, 14 2018 02:20:30 PM (IST) | Updated: Jun, 14 2018 02:20:31 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

पता ठिकाना मालूम होने के बाद भी अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी गिरोह के सरगनाओं पर हाथ नहीं डाला।

कोटा. 'खुशी' के गुनहगारों को तलाशने के लिए पुलिस महज कोटा में ही हाथ-पैर मारती रही। पता ठिकाना मालूम होने के बाद भी अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी गिरोह के सरगनाओं पर हाथ नहीं डाला। आलम यह कि तहरीर मिलने के एक साल बाद भी कोटा पुलिस ने किसी आरोपी का मोबाइल सर्विलांस पर नहीं लगवाया। जबकि जांच में सामने आए सभी नंबर अब भी काम कर रहे।

 

योग न करना पड़ सकता है इतना भारी कि दफ्तर में दर्ज़ हो जाएगी गैरहाज़िरी


बांग्लादेशी लड़की 'खुशी' (काल्पनिक नाम) की शिनाख्त होने के बाद बाल कल्याण समिति ने 23 जून 2017 को कैथूनी पोल थाने में मानव तस्करी, वेश्यावृत्ति और पोक्सो एक्ट जैसी गंभीर धाराओं में 9 लोगों के खिलाफ तहरीर दी थी। तीन महीने चली तफ्तीश के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था।

 

कहीं आप भी तो नहीं हो रहे इस मनमानी लूट के शिकार


तीन लोगों की हुई गिरफ्तारी
लड़की के मोबाइल से मिले सबूतों के आधार पर पुलिस ने सबसे महावीर नगर विस्तार योजना निवासी कैलाश सैनी को गिरफ्तार किया। पूछताछ में पता चला कि लड़की को कुन्हाड़ी निवासी अर्जुन लेकर आया था। पुलिस ने उसे भी धर दबोचा। सुल्तान और अर्जुन के बीच की कड़ी प्रिया कई महीनों तक पुलिस की आंख में धूल झोंकती रही, लेकिन 21 मई 2018 को कैथूनी पोल पुलिस ने उसे भी पकड़ लिया।

 

रसोई तक पहुंची किसानों के गुस्से की आंच


बांग्लादेशी लड़की को अंतरराष्ट्रीय सीमा पार कराकर भारत लाने और यहां उसको बेचने व वेश्यावृति कराने के मामले में जांच पूरी हो गई है। 9 लोगों को आरोपी बनाया गया था, तीन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बाकी बचे 6 लोगों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
-श्री कृष्ण गढ़वाल, सीआई, कैथूनीपोल


खुलेआम घूम रहे छह आरोपी
फरार चल रहे छह आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस अधीक्षक कोटा ने सीआई कैथूनीपोल के नेतृत्व में मार्च 2018 में टीम गठित की, लेकिन तमाम सबूत और पते ठिकाने पता चलने के बाद भी टीम ने अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी गिरोह के सदस्य मुम्बई निवासी रॉबिन उल और बांग्लादेशी से आने वाली लड़कियों को भारत में बेचने वाले मुलत: बांग्लादेश और हाल सूरत निवासी सुल्तान तक पहुंचने की कोशिश नहीं की।

 

गिरोह के बाकी सदस्य सागर, अजगर, राजू और विजय भी खुलेआम घूम रहे हैं। इसी बीच सुल्तान ने अपनी पहचान बदल ली। सूत्रों के मुताबिक अब वह 'राजा बड़ौदा' के नाम से डील करने लगा है। उसकी गिरफ्तारी के लिए गठित टीम को इसकी खबर तक नहीं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned