चुनावी जंग में प्रमोद पार लगाएंगे प्रमोद की नैया !

... लेकिन बारां में भाजपा को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी है।

By: Rajesh Tripathi

Published: 04 Apr 2019, 10:11 PM IST

कोटा/झालावाड़. 24 अप्रेल को झालावाड़-बारां सीट पर मतदान होगा। हाड़ौती और राजस्थान की इस बहुप्रतिष्ठित सीट पर सभी की नजर बनी हुई है। हाड़ौती वैसे तो आजादी के बाद से ही भाजपा का गढ़ माना जाता है। लेकिन इस बार विधानसभा चुनावों में भाजपा को यहां काफी नुकसान हुआ है, पूर्व सीएम के गढ़ में तो भाजपा ने क्लीन स्वीप कर लिया लेकिन बारां में भाजपा को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी है।

प्रमोद के सहारे प्रमोद
झालावाड़-बारां सीट पर भारतीय जनता पार्टी की ओर से जहां एक बार फिर सांसद दुष्यंत सिंह मैदान में है। वहीं कांग्रेस ने यहां प्रमोद शर्मा को टिकट दिया है। प्रमोद शर्मा झालावाड़ से ताल्लुक रखते है ऐसे में उन्हें बारां जिले में प्रमोद जैन भाया की जरूरत पड़ेगी। बारां में कैबिनेट मंत्री प्रमोद जैन का प्रभाव है साथ ही वे खुद दुष्यंत के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं। माना जा रहा था कि कांग्रेस यहां से उनकी पत्नी उर्मिला जैन का टिकट दे सकती है लेकिन ऐसा नहीं हुआ ।

10 मांगे, 5 मिले अब 50 देने पड़ गए..मुआवजे के बदले
भी मांग ली थी घूस, नप गए...

दुष्यंत सिंह के राजनीतिक अनुभव की बात करे तो वे पिछले 15 साल से लगातार सांसद के रूप में इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं व दोनों ही जिलों में अपना मजबूत प्रभाव रखते हैं। वहीं प्रमोद शर्मा पुराने भाजपाई रहे हैं। विधानसभा चुनावों में उन्होंने भाजपा का दामन छोड़ भारत वाहिनी की सदस्यता ग्रहण कर ली थी।

30 दशक से है भाजपा का कब्जा..
देश की स्वतंत्रता के बाद यह सीट केवल झालावाड़ लोकसभा क्षेत्र था। लेकिन 2008 के परिसीमन के बाद झालावाड़ की चार सीटों में बारां जिले की चार सीटें और जोड़ दी गई। आजादी के बाद यहां 16 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं। जिनमें से आठ बार भाजपा ने अपना परचम लहराया है जबकि चार बार कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। इसके अलावा भारतीय जनसंघ ने दो बार तथा जनता पार्टी व भारतीय लोकदल ने एक-एक बार विजय पाई है।

 

BJP
Rajesh Tripathi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned