राजस्थान की इस जेल में कैदियों की हो गई मौज...अब जेल से ही संभाल सकेंगे अपना घर

केन्द्रीय कारागार कोटा की अनूठी पहल

 

By: shailendra tiwari

Updated: 14 Apr 2020, 07:36 AM IST

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. अक्सर देखा जाता है कि अगर परिवार के मुखिया को किसी अपराध में जेल हो जाती है तो उस घर में आर्थिक तंगी के हालात बन जाते है। अब जेल प्रशासन की एक पहल के तहत कैदी जेल से ही अपना घर भी संभाल सकेंगे। कोटा के केन्द्रीय कारागार में अब कैदी कोटा डोरिया की साड़ी बनाएंगे। कैदियों को रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए जेल प्रशासन की ओर से यह पहल की गई है। इसके लिए राजस्थान कारागार विभाग द्वारा जेल में आशाएं योजना के तहत लूम स्थापित किया गया है। कैदियों ने शुक्रवार से काम शुरू कर दिया।

जेल अधीक्षक सुमन मालीवाल ने बताया कि जेल में कोटा डोरिया की साडिय़ों की बुनाई के लिए कैदियों का चयन कर उन्हें कारीगरों से विशेष प्रशिक्षण दिलवाया गया। कैदियों के प्रशिक्षित होने के बाद शुक्रवार से काम भी शुरू कर दिया गया।

जेल में समय का होगा सदुपयोग
उन्होंने बताया कि कैदियों के समय का सदुपयोग करने के साथ लूम की स्थापना से रोजगार भी मिलेगा। जेल से छूटने के बाद भी उन्हें कारीगर के रूप में रोजगार मिल सकेगा।

होम केयर प्रोडक्ट भी बनाएंगे
कोटा डोरिया साड़ी के अलावा कैदी होम केयर प्रोडक्ट भी बनाएंगे। इसके लिए जेल में प्रशिक्षण दिया गया। इसमें कैदियों का चयन कर पांच होम केयर प्रोडक्ट बनाने का काम शुरू हो चुका है। इनमें फिनाइल, हैंडवाश, डिशवॉश, टॉयलेट क्लीनर व टाइल्स क्लीनर बनाए जा रहे हैं।

डीजी ने प्रयासों को सराहा
केन्द्रीय कारागार पहुंचे जेल महानिदेशक भूपेन्द्र यादव ने अधीक्षक के इन प्रयासों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि अच्छे कार्य करने में कोटा जेल बहुत आगे है। यदि ऐसे ही कार्य होते रहे तो कोटा जेल आदर्श जेल बन जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned