लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट लगाने का भेजा प्रस्ताव

कोटा. मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने नए अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट लगाने व 300 बेड को सेन्ट्रल ऑक्सीजन सप्लाई से जोडऩे का प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजा है। यदि स्वीकृति मिलती है तो यहां मरीजों को सीधे बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा मिल सकेगी।

 

 

By: Abhishek Gupta

Published: 25 Aug 2020, 04:26 PM IST

कोटा. मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने नए अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट लगाने व 300 बेड को सेन्ट्रल ऑक्सीजन सप्लाई से जोडऩे का प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजा है। यदि स्वीकृति मिलती है तो यहां मरीजों को सीधे बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा मिल सकेगी। मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. विजय सरदाना ने बताया कि राज्य सरकार ने सभी मेडिकल कॉलेज में बेडों को सेन्ट्रल ऑक्सीजन सप्लाई से जोडऩे का प्लान तैयार किया है। इसके सरकार ने प्रस्ताव मांगे थे। उसी के अनुसार प्रस्ताव बनाकर भिजवाया गया। लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट में 2 हजार सिलेण्डर के बराबर का बड़ा टैंक होगा। साथ ही 300 बेड को सेन्ट्रल ऑक्सीजन सप्लाई से जोड़ा जाएगा। इसमें 90 बेड आईसीयू के रहेंगे। वर्तमान में नए अस्पताल में 20 बेड के सर्जिकल व मेडिकल आईसीयू में बेड पर सेन्ट्रल ऑक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था है। सेन्ट्रल ऑक्सीजन सप्लाई होने से सिलेण्डरों से ऑक्सीजन देने की व्यवस्था खत्म हो जाएगी।

सिलेण्डर से चलाना पड़ रहा काम

नए अस्पताल में कोरोना मरीजों की संख्या बढऩे से ऑक्सीजन की खपत भी बढ़ गई। ऐसे में रातों-रात मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने बाहर से सिलेण्डर मंगवाए। कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसमें कई गंभीर मरीज भी पहुंच रहे है। ऐसे में उनको ऑक्सीजन की जरुरत है। वर्तमान में 216 सिलेण्डर अस्पताल में मौजूद है, लेकिन ये भी कम पड़ रहे। ऐसे में रातों रात एसएमएस जयपुर से 30 सिलेण्डर, एमबीएस से 20, जेके लोन से 15, रामपुरा से 5, प्राइवेट 5 कुल 75 सिलेण्डर की अतिरिक्त व्यवस्था की है। 100 नए सिलेण्डर खरीदे है। वे कल रात गुजरात से आ जाएंगे। जबकि 100 नए सिलेण्डरों के टेंडर कर खरीदेंगे।

Abhishek Gupta
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned