प्रॉपर्टी के बाद अब राशन को लेकर आई बड़ी खबर...

बायोमैट्रिक फ्रेडली राशन कार्ड बनाने की कवायद शुरू

By: Ranjeet singh solanki

Published: 16 Jun 2019, 10:33 PM IST

कोटा। राज्य सरकार की ओर से बायोमैट्रिक फ्रेडली राशन कार्ड बनाने की कवायद शुरू कर दी है। राशन कार्ड को भी अब आधार कार्ड से जोडऩे की तैयारी है। शासन सचिव मुग्धा सिन्हा ने जयपुर में अधिकारियों की बैठक लेकर इस बारे में कार्य योजना पर चर्चा की है। उन्होंने इस संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश भी जारी किए हैं। शासन सचिव ने बताया कि खाद्य सुरक्षा अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार परिवार में वरिष्ठतम महिला मुखिया के नाम राशनकार्ड जारी करने की आवश्यकता, राशनकार्ड को बायोमैट्रिक फ्रे ण्डली बनाने, विभिन्न तरह की सूचनाओं का निरन्तर अपडेशन करने, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के गैस कनेक्शन को राशनकार्डों से जोडऩे एवं भविष्य में राष्ट्रीय स्तर पर पोर्टेबिलिटी जैसी सुविधाओं का समावेश किए जाने की आवश्यकता पर नए राशनकार्ड जारी करने के लिए एक कार्य योजना बनाई जा रही है। उन्होंने बताया कि नवीन राशनकार्ड में बैंक खाता संख्या, गैस कनेक्शन की स्थिति, श्रेणी, जन्मतिथि, अटैच उचित मूल्य दुकान, सामाजिक श्रेणी, दूरभाष संख्या एवं खाद्य सुरक्षा में चयन क्रमांक आदि का अंकन हो तथा जिसमें प्रार्थी स्वयं सुरक्षित ढंग से संशोधन भी करा सके। शासन सचिव ने बताया कि राशनकार्ड के आवेदन.पत्रों को ई.मित्र व अन्य उपलब्ध एजेन्सियों के माध्यम से ऑनलाईन प्राप्त करनेए राशनकार्ड पर सुरक्षात्मक प्रतीक, लोगो,लगानेए एक रूपये प्रतिकिलो गेहूं की योजना का संचालन करनेए सहरियाए कथौड़ी व खेरवा परिवारों को नि:शुल्क गेहूं उपलब्ध करानेए राशनकार्ड पर होम डिलीवरी हाईटेक प्रणाली से स्वत: ही प्रार्थी प्रिन्ट ले सकने जैसी सम्भावनाओं पर भी विचार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार का प्रयास आम उपभोक्ताओं को सम्पूर्ण सूचनाओं सहित सहीए सस्ता व सहज तरीके से राशनकार्ड उपलब्ध कराने का प्रयास है ताकि आम उपभोक्ता ज्यादा से ज्यादा लाभान्वित हो सके।श्रीमती सिन्हा ने तेल कम्पनियों के प्रतिनिधियों को निर्देशित किया कि वे अपने गैस कनेक्शन से संबंधित डाटा राशनकार्ड के साथ लिंक करवायें ताकि गैस युक्त राशनकार्डों पर केरोसीन के वितरण का दुर्पयोग न हो। राशनकार्ड का फार्म व अन्य सूचनायें तैयार करने के लिए जिला रसद अधिकारी श्री उम्मेद सिंह की अध्यक्षता में एक उपसमिति का गठन किया जायेगा जो आगे की कार्यवाही के लिए शीघ्र ही अपने सुझाव प्रस्तुत करेंगे। उल्लेखनीय है कि पूर्व में वर्ष 2012.13 में राशनकार्ड अभियान चलाकर आम उपभोक्ताओं को डिजीटाइज्ड राशनकार्ड उपलण़्ब्ध कराये गये थे जो 01 अप्रेलए2015 से लागू किये गये थे। बैठक में अतिरिक्त खाद्य आयुक्त श्रीमती रश्मि गुप्ताए हिन्दुस्तान पैट्रोलियम कम्पनी के उपमहाप्रबन्धक श्री मनोज गोयलए इण्डियन ऑयल कम्पनी के महाप्रबन्धक श्री एनण्मण्डलए एनआईसी के वरिष्ठ तकनीकी निदेशक श्री एसण्सीण्गुप्ताए सूचना एवं प्रौद्योगिकी के तकनीकी अधिकारी जिला रसद अधिकारी एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

 

Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned