ट्रेन आने से पहले ही गैंग को सचेत करेगा प्रहरी

बीटेक इलेक्ट्रिकल के छात्रों ने रेलवे गैंगमैनों की सुरक्षा के लिए प्रोटेक्शन डिवाइस 'प्रहरी' इजाद की है। यह ट्रेन आने का पहले संकेत देगी।

By: shailendra tiwari

Published: 10 Feb 2018, 07:18 PM IST

कोटा . बीटेक इलेक्ट्रिकल के छात्रों ने रेलवे गैंगमैनों की सुरक्षा के लिए प्रोटेक्शन डिवाइस 'प्रहरी' इजाद की है। जोकि रेलवे ट्रेक पर कार्य कर रहे कर्मचारियों को करीब डेढ़ किलोमीटर पहले ही ट्रेन के आने का संकेत देगी। जिससे ट्रेक पर कार्य कर रहे कर्मचारी समय रहते वहां से हट जाएंगे। रेलवे गैंगमैनों की सुरक्षा के लिए फिलहाल जिस सेफ्टी डिवाइस का इस्तेमाल कर रहा है, वह 800 मीटर की दूरी पर ट्रेन आते ही अलार्म बजा देता है, लेकिन इसे इस्तेमाल करने के लिए एक अतिरिक्त गैंगमैन को सेंसर लेकर कार्यस्थल से दूर खड़ा होना पड़ता है। कई बार गैंगमैन सेंसर्स लेकर तय दूरी तक जाते ही नहीं है। ऐसी स्थिति में तेज रफ्तार ट्रेनों के आने से ट्रेक पर काम कर रही गैंग को वहां से हटने का मौका नहीं मिल पाता। जिससे वह ट्रेन की चपेट में आकर दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं।

 

Read More : अगर घर में लगाएंगे ये Safety Gadgets, घर में घुसते ही जल उठेगी लाईटें, बजेगा तेज अलार्म पकड़ा जाएगा चोर

 

15 हजार में बना डिवाइस : प्रहरी डिवाइस ड्यूल सिग्नल सिस्टम रेडियो फ्रीक्वेन्सी और मोबाइल नेटवर्क पर काम करेगा। इसका फायदा यह होगा कि यदि कोई एक सिग्नल सिस्टम अचानक फेल हो भी जाए तो तत्काल दूसरा काम करने लगेगा और वक्त रहते रिसीवर को सिग्नल मिल जाएंगे। शुभम ने बताया कि इस डिवाइस को तैयार करने में 15 हजार रुपए का खर्च आया है, जबकि रेलवे जिस अलार्म सिस्टम का इस्तेमाल कर रहा है, वह इससे छह गुना महंगा है। पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर जोन के महाप्रबंधक गिरीश पिल्लई ने प्रहरी डिवाइस को देखने के बाद उसकी उपयोगिता का परीक्षण कराने का आश्वासन दिया है। उन्होंने छात्रों को आश्वासन दिया है कि यदि इसकी उपयोगिता साबित हुई तो इस तकनीकी को इस्तेमाल करने के लिए बोर्ड को प्रस्ताव भेजेंगे।

 

Read More : Good News : विद्यार्थियों को मिलेगा आधुनिक तकनीक का ज्ञान , माध्यमिक शिक्षा के सभी स्कूल होंगे कम्प्यूटराइज्ड

 

'प्रहरी पहले ही कर देगा सचेत : कोटा के निजी विश्वविद्यालय में बीटेक इलेक्ट्रोनिक्स की पढ़ाई कर रहे शिखर विजयवर्गीय, शुभम कुमार और धीरज कुमार की बनाई सेफ्टी डिवाइस का सेंसर ट्रेक पर काम कर रही गैंग से डेढ़ किमी दूर रेलवे के खंभे पर लगाया जाएगा। वहीं रिसीवर और तेज अवाज निकालने वाला हूटर गैंग के पास रखा जाएगा। ट्रेन जैसे ही सेंसर के सामने से निकलेगी वह रिसीवर को सिग्नल भेज देगा और हूटर बज जाएगा।

Show More
shailendra tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned