कभी भी मुकुन्दरा की तरफ बढ़ सकते हैं रणथंभौर के बाघ, मुख्य वन संरक्षक ने वन अधिकारियों को दी हिदायत

रणथंभौर से निकलकर बूंदी के जंगलों में घूम रहे बाघों की फिलहाल शिफ्टिंग तय नहीं है

Suraksha Rajora

December, 0611:05 PM

कोटा. रणथंभौर से निकलकर बूंदी के जंगलों में घूम रहे बाघों की फिलहाल शिफ्टिंग तय नहीं है, लेकिन बाघों की मॉनिटरिंग 24 घंटे की जाएगी। किशोरपुरा स्थित मुख्य वन संरक्षक कार्यालय में शुक्रवार को हुई बैठक में मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर व मुख्य वन संरक्षक आनंद मोहन ने बताया कि बाघों के मूवमेंट, मुकुन्दरा हिल्स की ओर इनके आने की संभावनाओं को देखते हुए बैठक रखी गई। इसमें बूंदी व रणथंभौर के वन अधिकारी भी शामिल हुए।

चार बाघों का है मूवमेंट

विभागीय जानकारी के अनुसार बंूदी जिले के वन क्षेत्रों में 4 बाघों का मूवमेंट है। टी-110 मेजनदी के आस पास के क्षेत्रों में मूवमेंट कर रहा है। करीब 7 से 8 माह से यह क्षेत्र में विचरण कर रहा है। इन्द्रगढ़ वन क्षेत्र में टी-115 का मूवमेंट है। इसका सवाई मानसिंह सेंचुरी जोन 10 से आना जना लगा रहता था। दो बाघ टी-62 व टी 116 जो हालांकि सवाईमानसिंह सेंचुरी की सीमा में ही है। लेकिन यह भी मूवमेंट करते हैं तो इस ओर आ सकते हैं। चारों की बाघ ढाई से तीन वर्ष के हैं।


कैमरों से निगरानी

बैठक में मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व के उप वन संरक्षक टी मोहन राज, वन्यजीव विभाग के उपवन संरक्षक बीजो जॉय, मंडल वन के सहायक वन संरक्षक तरुण कुमार, रणथंभौर के उप वन संरक्षक मुकेश सैनी व अन्य वनधिकारी मौजूद रहे। आनंद मोहन ने बताया कि रणथंभौर की टीम के साथ कोटा व बूंदी डिविजन की टीम बाघों की मॉनिटरिंग करेंगी। मॉनिटरिंग इस तरह से की जाएगी कि बाघों का मूवमेंट प्रभावित न हो। इसके अलावा कैमरों से भी बाघों की गतिविधियों पर भी निगाह रखी जा रही है। आनंद मोहन ने बताया कि इन बाघों की शिफ्टिंग की फिलहाल कोई योजना नहीं है। सभी स्थितियों को देखते हुए ही उच्च अधिकारियों से दिशा निर्देश के अनुसार निर्णय लिया जाएगा।

Show More
Suraksha Rajora Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned