...तो यह कर रही है पुलिस, अब एसपी कराएंगे पुराने मामलों की भी जांच

...तो यह कर रही है पुलिस, अब एसपी कराएंगे पुराने मामलों की भी जांच

Shailendra Tiwari | Publish: Sep, 05 2018 04:40:13 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

इनसाइड स्टोरी पीडि़त के बयान में पुलिसकर्मी रविन्द्र मलिक पर गंभीर आरोप

 

कोटा. सरेराह गोलीबारी के मामले में एक पुलिसकर्मी की भूमिका पर पीडि़त के बयान ने पुलिस के कामकाज की पोल खोल कर रख दी। अब पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव ने कहा है कि वे मामले में पुलिसकर्मी रविन्द्र मलिक की भूमिका की इस मामले से अलग से जांच कराएंगे और दोषी पाए जाने पर कार्रवाई भी करेंगे। मलिक का नाम पहले भी कई विवादों में आया र्है। भार्गव ने कहा, पुराने विवादों की उन्हें अभी जानकारी नहीं है। वे इन्हें भी दिखवाएंगे।
गोल्डी ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि उसने व नितेश खींची ने मिलकर चन्द्रशेखर यादव से तालेड़ा कस्बे में करीब तीन बीघा कृषि भूमि कमलादेवी के नाम से खरीदी थी। इसके बाद चन्द्रशेखर से यहीं भूमि हैड कांस्टेबल रविन्द्र मलिक और असलम ने किसी अन्य ने नाम से खरीद ली। इसको लेकर राजीनामे का दबाव बनाया जा रहा है। इसके अलावा इरफान ने बोरखेड़ा में गोल्डी को 15 लाख रुपए में 34 हजार फीट जमीन बेची थी, लेकिन मौके पर 10 हजार फीट जमीन अनिरुद्ध सिंह के नाम निकली, जबकि 24 हजार फीट भूमि यूआईटी की निकली। इस मामले में भी उसका इरफान से विवाद चल रहा था।


'पुलिस पॉलिटिक्स' में भी शामिल
गोल्डी ने बयान में बताया कि चार वर्ष पहले रविन्द्र मलिक ने एसपी सत्यवीर सिंह को ट्रेप करवाने में सहायता करने को कहा था। एसपी को ट्रेप करवाने के मामले में वह गवाह भी है। गत दिनों वह अदालत में सत्यवीर से मिला। इसके बाद से रविन्द्र मलिक उसके पीछे पड़ा हुआ है।

 

Prev Page 1 of 2 Next

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned