पहली बार पुलिस पिटाई के बाद दशहरा मेले में बंद की दुकाने, मचा बवाल, दुकानदार बोले, मेला पुलिस चला ले या फिर निगम

पहली बार पुलिस पिटाई के बाद दशहरा मेले में बंद की दुकाने, मचा बवाल, दुकानदार बोले, मेला पुलिस चला ले या फिर निगम
पहली बार पुलिस पिटाई के बाद दशहरा मेले में बंद की दुकाने, मचा बवाल, दुकानदार बोले, मेला पुलिस चला ले या फिर निगम

Suraksha Rajora | Updated: 09 Oct 2019, 10:22:32 PM (IST) Kota, Kota, Rajasthan, India

Kota Dussehra झूला मार्केट सहित सभी मार्केटों की दुकानें बंद

कोटा. दशहरा मेले में मंगलवार रात्रि में झूला मार्केट के व्यापारियों, अन्य दुकानदारों के साथ मारपीट व दुकानों का सामान फैकने के विरोध में बुधवार को दशहरा मेला व्यापार संघ के आह्वान पर मेले के सभी दुकानदारों ने अपनी दुकानें बंद कर दी। मेले में आए लोग दुकानें व झूले बंद देख चक्कर में पड़ गए।

लोग दुकानदारों से पूछते रहे दुकानें बंद क्यों है तो व्यापारी उनसे पुलिस व निगम अधिकारियों से कारण पूछने कहकर उन्हें आगे रवाना कर रहे थे। व्यापारियों ने शाम से ही दुकानें बंद कर लाइटें बंद कर दी लेकिन रात्रि 9 बजे तक भी पुलिस व निगम का कोई आला अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा।

मेला पुलिस चला ले या फिर निगम
झूला मार्केट के जाकिर भाई ने बताया कि निगम ने जितनी जगह की रसीद काटी है उसी जगह में झूले लगाए हैं। कुछ झूलों में रसीद में दर्ज जगह से कम स्थान होने से थोड़ा सा झूला रोड पर आ रहा है। इसमें हमारी क्या गलती है। झूला छोटा तो हो नहीं सकता। अगर पुलिस को इससे परेशानी थी तो पहले मेला अधिकारी को मौके पर बुलाते और फिर कोई कार्रवाई करते। एएसपी साहब ने हमारी कोई बात नहीं सुनी और गाली गलौच व मारपीट शुरू कर दी। बुधवार रात्रि में पुलिस का बर्ताव देखकर तो ऐसा लगा मेला निगम नहीं पुलिस चला रही हो।

सामान जब्त किया, गल्ला उठाकर सड़क पर फैंका

झूला मार्केट में ही बैलून गन शूटिंग की दुकान लगाने वाले बाबूखान ने बताया कि पुलिस के बड़े साहब आए और गाली गलौच करते हुए बैलून व गन उठाकर ले गए, अधिकारी से कहा की दुकान तो निगम की अनुमति से लगाई तो उन्होंने दो तीन थप्पड़ जड़ दिए वहां काम कर रहे लड़के को डंडे से पीटा। दुकानदारों ने कहा कि मौत का कुआ के बाहर काउंटर पर बैठ कर्मचारी को बुलाया, कर्मचारी ने कहा आ रहा हूं, इतने में ही पुलिस ने वहां रखे गल्ले को उठाकर सड़क पर फैंक दिया और उसके साथ डंडों से मारपीट की।

दो लाख की रसीद काटी है निगम ने
ड्रेगन झूला लगाने वाली अख्तरी बैगम ने बताया कि झूला लगाने के लिए निगम ने 60 गुणा 41 फीट जगह की रसीद काटकर 2 लाख रुपए जमा किए है। मौके पर झूला लगाने के दौरान जब जगह को नापा तो वह 60 गुणा 29 फीट ही निकली। निगम ने जगह तो कम कर दी लेकिन झूले की साइज को कैसे कम करें।

ऐसे में आधा फुट जगह सड़क की कवर हो गई तो इसमें हमारी क्या गलती है। निगम को झूलों का स्थान तय करने से पहले झूलों की साइज का पता करना चाहिए था। झूला व्यापारी अब्दुल रजाक ने बताया कि मैंने ज्वाइंट व्हील झूला व नाव झूला के लिए पौेने चार लाख रुपए जमा कर रसीद कटवाई। मौके पर एक झूला तो लग गया लेकिन नाव झूला की जगह कम होने से उसे नहीं लगा पाए।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned