राजस्थान के किसानों के खेतों में खुशहाली लाएगी सोयाबीन

सोयाबीन की नई किस्म एनआरसी 127 की सिफारिश

By: Ranjeet singh solanki

Published: 24 May 2020, 11:07 AM IST

कोटा। राजस्थान में सोयाबीन उत्पादन में अव्वल रहने वाले हाड़ौती के किसानों के लिए कोरोना के संकटकाल में खुश खबर आई है। खरीफ सीजन में किसान सोयाबीन की नई किस्म की बुवाई कर अधिक उत्पादन ले सकेंगे। इससे किसानों की आय में वृद्धि होगी।
कोटा के कृषि वैज्ञानिकों ने अथक प्रयासों से सोयाबीन की नई किस्म ईजाद की है। इसमें कोटा खण्ड में सोयाबीन की नई किस्म एनआरसी 127 की सिफारिश की गई। इस किस्म की फसल 97 से 105 दिन में पक जाएगी और उत्पादन 20 से 23 क्विंटल होगा। जो अन्य किस्मों के मुकाबले 20 से 30 प्रतिशत अधिक उत्पादन देगी। इस किस्म की खासियत यह है कि कम पानी में अधिक उत्पादन देने वाली है। साथ ही पकने की अवधि में कम अवधि की है। नई किस्म एनआरसी 127 की खरीफ सीजन में बुवाई की सिफारिश की गई है। गत दिनों कोटा के कृषि अनुसंधान केन्द्र कोटा में संभागीय अनुसंधान एवं प्रसार सलाहकार समिति की बैठक में नई किस्म की अनुसंधान निष्कर्षों पर मंथन किया गया। अनुसंधान केन्द्र के निदशक डा. प्रतापसिंह ने सोयाबीन की नई किस्म को लांच करते हुए इसके फायदें बताएं। सोयाबीन की इस किस्म को भारतीय कृषि अनुसंधान की मुहर लगाई जा चुकी है। बैठक में वैज्ञानिक डा.एन.एल. मीणा, कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक डा. रामावतार शर्मा, उद्यान विभाग के संयुक्त निदेशक पी.के. गुप्ता, कृषि खण्ड सीएडी के परियोजना निदेशक बलवंतसिंह समेत हाड़ौतीभर के कृषि वैज्ञानिक मौजूद थे।

Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned