BIG News: रेलवे के कोटा मंडल ने रचा इतिहास: एक साल में कमाए 1 हजार 202 करोड़

Zuber Khan

Publish: Apr, 07 2019 10:43:26 AM (IST)

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा . पश्चिम मध्य रेलवे के कोटा मंडल ने वित्तीय वर्ष 2018-19 में हर रोज 3.29 करोड़ से ज्यादा रुपए कमाए। कोटा मंडल ने माल यातायात, यात्री यातायात, टिकट चैकिंग, अन्य कोचिंग यातायात एवं विविध आय मिलाकर कुल 1 हजार 202 करोड़ 12 लाख रुपए की आय अर्जित की है। इस तरह हर घंटे करीब पौने 14 लाख रुपए का राजस्व अर्जित किया। वहीं 10 दिन तक आरक्षण आंदोलन के चलते ट्रेन बंद होने से करीब 25 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

Read More: झाडू-पौंछा लगाकर बच्चे को पढ़ाया-लिखाया, जवान हुआ तो शराबियों ने कर दी हत्या, पढि़ए, धरने पर बैठी महिलाओं का दर्द...

इस साल अर्जित की गई यह आय पिछले वित्तीय वर्ष 2017-18 में अर्जित आय 1 हजार 174 करोड़ 19 लाख रुपए की तुलना में लगभग 2.37 प्रतिशत अधिक है। समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में केवल यात्री यातायात से कोटा मंडल को 378 करोड़ 1 लाख की आय हुई, जो कि वर्ष 2017-18 की 370 करोड़ 91 लाख की तुलना में 1.91 प्रतिशत अधिक है। इसी प्रकार माल यातायात से 757 करोड़ 47 लाख रुपए की आय अर्जित हुई है, जो कि विगत साल की 743 करोड़ 46 लाख की तुलना में 1.88 प्रतिशत अधिक है।

Pulwama terror attack: इंटेलीजेंस की सूचना पर कोटा थर्मल की बढ़ाई सुरक्षा, चप्पे-चप्पे पर CISF तैनात

इसके अलावा अन्य कोचिंग यातायात के अन्तर्गत पार्सल, लगेज, विशेष ट्रेन चलाने, टिकट चैकिंग अभियानों में जुर्माना वसूली से होने वाली आय आदि की मद में 38 करोड़ 24 लाख आय अर्जित की गई है, जो कि विगत साल की आय 29 करोड़ 52 लाख से 29.54 प्रतिशत अधिक है। इसी प्रकार रिटायरिंग रूम, पार्किंग ठेकेदारों की लाइसेंस फीस, खानपान स्टॉल्स से वसूली गई लाइसेंस फ ीस, नॉन फेयर रेवेन्यू, टाइम टेबल की बिक्री से 28 करोड़ 40 लाख रुपए आय अर्जित हुई है।

Read More: कोटा में तेज धमाके के साथ मोबाइल में बलास्ट, युवक की दर्दनाक मौत, परिवार में मचा कोहराम

टिकट चैकिंग में कमाए थे 7 करोड़ 24 लाख
कोटा मंडल रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2018-19 में टिकट चैकिंग अभियान के तहत 3 लाख 42 हजार मामले पकड़कर रिकॉर्ड जुर्माना वसूला। वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक विजय प्रकाश ने बताया कि हाल ही समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में 17 करोड़ 24 लाख 14 हजार रुपए जुर्माना वसूला गया, जो वित्तीय वर्ष 2017-18 से 9.34 प्रतिशत अधिक है। उन्होंने बताया कि कोटा मंडल ने नवम्बर 2018 में 2 करोड़ 45 लाख 17 हजार रुपए जुर्माना वसूला है, जो 62 साल के इतिहास में टिकट चैकिंग के मामले में सर्वाधिक वसूली है। इसी माह में 46829 मामले पकड़े गए थे। इसी तरह वित्तीय वर्ष के आखिरी माह मार्च 2019 में मंडल द्वारा बिना टिकट व अनियमित यात्रा के 29535 मामले पकड़ 1 करोड 44 लाख रुपए जुर्माना वसूला। जबकि, गत वर्ष मार्च 2018 में 25755 मामलों में 1 करोड़ 22 लाख 42 हजार 821 रुपए जुर्माना वसूला था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned