निजी अस्पतालों में लॉकडाउन, सरकारी में पहुंच रहे सामान्य बीमारी के मरीज

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने पूरे प्रदेश में लॉक डाउन लगा रखा। इसी के चलते कोटा कोचिंग नगरी भी लॉकडाउन हो गई। ऐसे में संक्रमण से बचने के लिए निजी अस्पतालों ने डॉक्टरों ने खांसी-जुकाम व बुखार की ओपीडी को बंद कर दिया।

By: Haboo Lal Sharma

Published: 27 Mar 2020, 06:16 PM IST

कोटा. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने पूरे प्रदेश में लॉक डाउन लगा रखा। इसी के चलते कोटा कोचिंग नगरी भी लॉकडाउन हो गई। ऐसे में संक्रमण से बचने के लिए निजी अस्पतालों ने डॉक्टरों ने खांसी-जुकाम व बुखार की ओपीडी को बंद कर दिया। इसके चलते निजी अस्पतालों के मरीज सरकारी अस्पतालों में पहुंचकर अपना इलाज करवा रहे। ऐसे में लॉकडाउन के बीच सरकारी अस्पतालों में मरीजों की संख्या कम नहीं हो पा रही।
..............
निजी अस्पताल में सिर्फ इमजरेंसी
कोटा में दो दर्जन से अधिक निजी अस्पताल है। इनमें सिर्फ दुर्घटना,ह्दय, न्यूरो व यूरो के मरीजों के इमरजेंसी केस ही लिए जा रहे। यहां सामान्य
मेडिसिन की ओपीडी को बिल्कुल बंद कर दिया। साथ ही डॉक्टरों ने बैठना भी बंद कर दिया। वे मरीजों को वाट्सअप व फोन पर ही परामर्श दे रहे। लॉक डाउन
के चलते निजी अस्पतालों में इमरजेंसी केस की संख्या भी बहुत कम हो गई। पहले अमूमन 70-80 इमजरेंसी केस आते थे। वर्तमान में यहां 30 से 35 केस
ही आ रहे। कोटा शहर में करीब 250 से 300 प्राइवेट डॉक्टर है। इनमें से अधिक वाट्सअप व फोन पर ही मरीजों को परामर्श दे रहे।
....................
सरकारी अस्पतालों में ओपीडी नहीं हो रही कम
लॉकडाउन के चलते निजी अस्पतालों की ओपीडी सेवा बंद करने से सरकारी अस्पतालों में खांसी-जुकाम व बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ गई। यहां मरीजों की संख्या कम नहीं हो रही। हालांकि यहां अन्य ओपीडी में मरीजों की संख्या कम हुई है। मौसमी बीमारियों के सीजन में नए अस्पताल की बात करें तो चार हजार ओपीडी पहुंच जाती थी। ऐसे एमबीएस अस्पताल में तीन हजार व जेके लोन अस्पताल व रामपुरा जिला अस्पताल में 600 से 700 की ओपीडी पहुंच
जाती थी।
..............
अस्पतालों में सिर्फ इमरजेंसी ऑपरेशन
सरकारी व निजी अस्पतालों में सिर्फ इमरजेंसी ऑपरेशन किए जा रहे। रूटिन के ऑपरेशन फिलहाल टाल दिए। कोटा मेडिकल कॉलेज से संबंद्ध तीनों अस्पतालों
में अमूमन 60 रुटिन के ऑपरेशन होते है। ये टाल दिए। जबकि इमरजेंसी ऑपरेशन किए जा रहे, लेकिन लॉकडाउन के चलते इनकी संख्या में भी कमी आई है।

Show More
Haboo Lal Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned