#Good news: हड़ताल खत्म,कल से लौटेगी रौनक

प्रशासन के हस्तक्षेप पर 11 सदस्यीय कमेटी गठित

By: Suraksha Rajora

Published: 10 Jan 2019, 07:44 PM IST

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. भामाशाहमंडी में पिछले चार दिन से चल रही हम्मालों की हड़ताल गुरुवार को जिला प्रशासन के दखल के बाद खत्म हो गई। शुक्रवार को मंडी में कारोबार सुचारू रूप से चलेगा। पल्लेदार एसोसिएशन सोमवार से 10 प्रतिशत दर बढ़ाने की मांग को लेकर हड़ताल पर थी। इस कारण मंडी में कारोबार ठप पड़ा था। दरें बढ़ाने का किसान और व्यापारी वर्ग विरोध कर रहा था। इस कारण कोई सहमति नहीं बन पा रही थी।

 

Read More: 2019 लोकसभा से पहले यहां भिड़ेंगे पीएम मोदी और राहुल गांधी

 

गुरुवार शाम चार बजे जिला प्रशासन की ओर से जिला परिषद के सीईओ बूजमोहन बैरवा, मडी प्रशासक एसडी मीणा की अध्यक्षता में वार्ता हुई। इसमें हम्मालों, व्यापारियों और किसान प्रतिनिधियों ने अपनी-अपनी बात रखी। किसान प्रतिनिधि जगदीश शर्मा, दशरथ कुमार का कहना है कि मंडी में दरों के निर्धारण की कोई नीति नहीं है। हम्माल मनमर्जी से दरें बढ़ाने पर अड़े हुए हैं। चडारिया (महिला श्रमिक) 50 किलो की बोरी पर दो रुपए ले रही है।

 

Read More: बारहवीं बोर्ड के सिलेबस का पलड़ा 11 वीं के सिलेबस से रहा भारी...

 

किसान संगठनों से कमेटी बनाने का सुझाव दिया। कोटा ग्रेन एण्ड सीड्स मर्चेन्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अविनाश राठी ने व्यापारियों और किसानों का पक्ष रखा। इसके बाद 11 सदस्यों की एक कमेटी गठित की गई, जो 10 दिन में दरें बढ़ाने सहित अन्य मसलों पर नीति का मसौदा तैयार किया जाएगा। यह रिपोर्ट मंडी प्रशासक को सौंपी जाएगी।

 

यह होंगे समिति

कोटा ग्रेन एण्ड सीड्स मर्चेन्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अविनाश राठी, महामंत्री महेन्द्र जैन, पल्लेदार एसोसिएशन के अध्यक्ष जगदीश गुर्जर, मंत्री राजेश चौहान, छह किसान प्रतिनिधि जगदीश शर्मा, अमरलाल, दशरथ कुमार व तीन अन्य किसान प्रतिनिधि तथा मंडी समिति के सचिव समिति में होंगे।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned