विधानसभा से भी ज्यादा रोमांचित हुए छात्रसंघ चुनाव, भरत को 4 मतों से मिली जीत तो चंद्रशेखर री-काउंटिंग के बाद बने अध्यक्ष

विधानसभा से भी ज्यादा रोमांचित हुए छात्रसंघ चुनाव, भरत को 4 मतों से मिली जीत तो चंद्रशेखर री-काउंटिंग के बाद बने अध्यक्ष

Zuber Khan | Publish: Sep, 12 2018 12:31:18 AM (IST) | Updated: Sep, 12 2018 12:40:51 AM (IST) Kota, Rajasthan, India

हाड़ौती में कोटा विश्वविद्यालय समेत 31 कॉलेजों में हुए छात्रसंघ चुनाव में नतीजे चौंकाने वाले रहे। खास बात यह रही कि यहां भरत जैन सबसे कम 4 मतों से जीते। जबकि, जेडीबी आट्र्स कॉलेज की सुनीता मीणा सर्वाधिक 723 मतों से जीती।

कोटा. हाड़ौती में कोटा विश्वविद्यालय समेत 31 कॉलेजों में हुए छात्रसंघ चुनाव में नतीजे चौंकाने वाले रहे। प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले छात्रसंघ अध्यक्ष चुनाव को अग्निपरीक्षा के रूप में देखा जा रहा था। ऐसे में भाजपा का गढ़ माने जाने वाले कोटा शहर में निर्दलीय भारी पड़े। वहीं मुख्यमंत्री के गृहजिले झालावाड़ में एनएसयूआई ने एबीवीपी को पटखनी दी। झालावाड़ में सात कॉलेजों में से चार में एनएसयूआई के अध्यक्ष बने, वहीं 3 अध्यक्ष एबीवीपी के खाते में आए। एबीवीपी बूंदी में एकतरफा जीती, वहीं बारां में शीर्ष पर रही।

कोटा विश्वविद्यालय और दस महाविद्यालयों में निर्दलीय प्रत्याशियों ने छात्र संगठनों के छक्के छुड़ा दिए। कुल 44 पदों के लिए हुए चुनाव में 28 पद निर्दलीयों के खाते में गए। जबकि एबीवीपी को 16 पदों पर ही जीत मिल सकी।

 

खास बात यह रही कि कोटा के राजकीय विधि महाविद्यालय में कांटे की टक्कर रही। यहां भरत जैन सबसे कम 4 मतों से जीते। जबकि, जेडीबी आट्र्स कॉलेज की सुनीता मीणा सर्वाधिक 723 मतों से जीती। इसी तरह कोटा विश्वविद्यालय में री काउंटिंग के बाद चंद्रशेखर नागर जीतकर अध्यक्ष बने।

 

28 पदों पर निर्दलीय काबिज

कोटा विवि समेत दस महाविद्यालयों में 44 पदों पर चुनाव हुआ था। जिसमें से 28 पदों पर निर्दलीय प्रत्याशियों ने कब्जा कर लिया। एबीवीपी को 16 सीटों से ही संतोष करना पड़ा। हालांकि एबीवीपी ने जेडीबी साइंस, जेडीबी कॉमर्स, गवर्नमेंट कॉमर्स कॉलेज, राजकीय संस्कृत महाविद्यालय और राजकीय कला महाविद्यालय के अध्यक्ष पदों पर जीत दर्ज की।

कोटा विश्वविद्यालय
पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंद्वी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन

अध्यक्ष - चंद्रशेखर नागर - 387- - क्षेत्रपाल सिंह - 344 - 43 मत - निर्दलीय
महासचिव- दीपक सुमन - 427 - लोकेश धाकड़ - 270 -157 मत - निर्दलीय

उपाध्यक्ष - आकाश शर्मा - 453 - भुवनेश गौतम - 303 - 150 मत - निर्दलीय
संयुक्त सचिव - समीक्षा दीक्षित - 452- चित्रांशा गोचर - 308 - 144 मत- निर्दलीय


राजकीय वाणिज्य महाविद्यालय

पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन
अध्यक्ष - विजय सामरिया - 951 - नितेश जौहरी - 748 - 203 मत - एबीवीपी

उपाध्यक्ष - अमन गौतम - 984 - जयराज सिंह - 809 - 175 मत - निर्दलीय
महासचिव - अमित गुप्ता - 858 - मानसी मेहरा - 708 - 150 मत - एबीवीपी

संयुक्त सचिव - लवदीप शर्मा - 1049 - ओमान खान - 684 - 365 मत - एबीवीपी

जेडीबी कॉमर्स
पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन

अध्यक्ष - महिला बंसल - 413 - अंजली गोस्वामी - 262 - 151 मत - एबीवीपी
उपाध्यक्ष - महिमा भाटी - 415 - शैरीन खान - 267 - 148 मत - एबीवीपी

महासचिव - पूजा शर्मा - 410 - साक्षी चौहान - 266 - 144 मत - एबीवीपी
संयुक्त सचिव - निदा मिर्जा - 395 - एकता राठौर - 281 - 114 मत - एबीवीपी


जेडीबी आट्र्स

पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन
अध्यक्ष - हनी शर्मा - 701 - हिना राठौर - 685 - 16 मत - निर्दलीय

उपाध्यक्ष - सुनीता मीणा - 794 - कोमल चौहान- 723 - 71 मत- निर्दलीय
महासचिव - ज्योति कंवर - 669 - मीना मेघवाल - 638 -31 मत - निर्दलीय

संयुक्त सचिव - स्वाति गोचर - 828 - विद्या लोधा - 638 - 190 - निर्दलीय


जेडीबी साइंस

पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन
अध्यक्ष - टीना सुवालका - 545 - शिवानी सेन- 164- 381 मत- एबीवीपी

उपाध्यक्ष - मनाली राठौर - 544 - सुनिधि नागर - 125- 419 मत - एबीवीपी
महासचिव - रेनू बघेल - 601 - मोनू सुमन- 151- 450 मत - एबीवीपी

संयुक्त सचिव- निकिता मोदी - 543 -हर्षिता गौतम - 128 - 415 एबीवीपी

 


राजकीय महाविद्यालय (विज्ञान)

पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत जीत का अंतर संगठन
अध्यक्ष - रघुवीर नागर 364 नागेन्द्र सिंह 278 86 मत निर्दलीय

उपाध्यक्ष - आशीष बैरवा- 316 - मनजीत गुर्जर- 290 - 26 मत - निर्दलीय
महासचिव - गुलाम मुस्तफा- 393- पूजा सैनी - 296 - 97 मत - निर्दलीय

संयुक्त सचिव -अविनाश बैरवा- 416 - नीरज शर्मा - 375 - 41 मत - निर्दलीय

राजकीय कला महाविद्यालय
पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन

अध्यक्ष - रवि गुर्जर - 928 - अरबाज खान- 412- 516 मत - एबीवीपी
उपाध्यक्ष - पवन मीणा - 731- विशाल नायक- 674- 57 मत - निर्दलीय

महासचिव - प्रियंका मिश्रा -1036- अशोक मेघवाल- 512- 524 मत - एबीवीपी
संयुक्त सचिव-पूजा नागर - 1628- प्रद्युमन सिंह- 918 - 710 मत - निर्दलीय

 

राजकीय विधि महाविद्यालय

पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन
अध्यक्ष - बुद्धराज मेरोठा - 38 - प्रमोद वर्मा - 31 - 07 मत - निर्दलीय

उपाध्यक्ष - भरत जैन - 47 -चांदमल बेनीवाल -43 - 04 मत - निर्दलीय
महासचिव - सूरज वर्मा - 38 - बरखा कुमारी - 30 - 08 मत - निर्दलीय

संयुक्त सचिव - आयुष जैन - 52 - अफसर हुसैन - 36 - 16 मत - निर्दलीय

 

राजकीय संस्कृत महाविद्यालय
पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन

अध्यक्ष - कमलेश वैष्णव - 142 - नितेश शर्मा - 74 - 68 - एबीवीपी
उपाध्यक्ष - मुकेश लोधा - 117 - योगेश यादव - 98 - 19 - एबीवीपी

महासचिव - राजकरंता गोचर - 122 - चंद्रकांता कुमारी- 92 - 30 - एबीवीपी
संयुक्त सचिव- दुष्यंत गौतम - निर्विरोध जीते - निर्दलीय


नर्सिंग कॉलेज

पद - विजेता - मिले मत - प्रतिद्वंदी - मिले मत - जीत का अंतर - संगठन
अध्यक्ष - कुशाराम देवासी-172 - राम अवतार चौधरी- 149- 23 मत - निर्दलीय

उपाध्यक्ष - सत्यनारायण धाकड़- निर्विरोध निर्वाचित - निर्दलीय
महासचिव - प्रवीण मालव- 102 - युगराज मीणा - 142 - 40 मत - निर्दलीय

संयुक्त सचिव- बबलू कुमार- 181 - हिम्मत सिंह - 140 - 41 मत - निर्दलीय

मेडिकल कॉलेज

अध्यक्ष - शुभांगी बोहरा-298 - प्रद्युमन सिंह- 258- 40 मत - निर्दलीय

उपाध्यक्ष- अंजली सोनी- निर्विरोध निर्वाचित

महासचिव- निर्भय गुप्ता- निर्विरोध निर्वाचित
संयुक्त सचिव- शमिता यादव- निर्विरोध निर्वाचित

 

 

चुनाव पर एक नजर
मतगणना शुरू हुई - सुबह 11 बजे से
सबसे पहले परिणाम आया- राजकीय विधि महाविद्यालय

सबसे आखिर में परिणाम आया- राजकीय महाविद्यालय विज्ञान
सबसे कम मतों से जीते- भरत जैन, 04 मत, राजकीय विधि महाविद्यालय

सबसे अधिक मतों से जीती- सुनीता मीणा-723 मत- जेडीबी आट्र्स कॉलेज
री काउंटिंग के बाद बने अध्यक्ष :- कोटा विश्वविद्यालय में अध्यक्ष पद पर री काउंटिंग कराई गई, दोनों बार चंद्रशेखर नागर जीते

- जेडीबी आट्र्स में अध्यक्ष पद पर दो बार री काउंटिंग हुई, दोनों ही बार हनी शर्मा की जीत का अंतर बढ़ता गया
कोटा में नोटा: कोटा विश्वविद्यालय में अध्यक्ष पद पर तीन, महासचिव पद पर आठ, उपाध्यक्ष पद पर 16 और संयुक्त सचिव के पद पर 14 मतदाताओं ने नोटा का इस्तेमाल किया

सबसे रोचक जीत- राजकरंता गोचर, महासचिव संस्कृत कॉलेज, मताधिकार का नहीं कर सकीं थी इस्तेमाल, इकलौती विवाहित छात्रसंघ पदाधिकारी
शपथ हुई- चुनाव परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद कोटा विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. नीलिमा सिंह चंदेल ने छात्रसंघ पदाधिकारियों को शपथ दिलाई। ऐसे ही सभी राजकीय महाविद्यालयों में नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को प्राचार्यों ने शपथ दिलाई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned