सूर्य ने दिखाए तेवर, अश्विन में भी जेठ सी गर्मी

हाड़ौती में अश्विन माह में भी जेठ सी गर्मी का असर देखने को मिल रहा है। मानूसन की बेरुखी के कारण पारा 36 के पार पहुंच गया है। भीषण गर्मी आमजन को झुलसा रही है।

 

By: Abhishek Gupta

Published: 17 Sep 2020, 01:16 PM IST

कोटा. हाड़ौती में अश्विन माह में भी जेठ सी गर्मी का असर देखने को मिल रहा है। मानूसन की बेरुखी के कारण पारा 36 के पार पहुंच गया है। भीषण गर्मी आमजन को झुलसा रही है। लोग को जमकर तपा रही है। पहले सुबह से ही तेज गर्मी का असर देखने को मिल रहा है। दिन में हालात यह है कि भीषण गर्मी के चलते लोग घरों से बाहर तक नहीं निकल पा रहे है। बाजार व कॉलोनियां भी सूनी नजर आ रही है। हवा नहीं चलने से आद्र्रता का जोर बना हुआ है। इससे घरों में कू  लर व पंखों की हवा भी बेअसर साबित हो रही है। गर्मी का असर शाम व रात तक बना हुआ है। उमस भरी गर्मी के कारण लोग पसीने से तरबतर हो रहे है। मौसम विभाग के अनुसार, अधिकतम तापमान 36.9 व न्यूनतम तापमान 27.7 डिग्री सेल्सियस रहा। सुबह की आद्र्रता 74 प्रतिशत व शाम की 47 प्रतिशत रही।

एेसे बढ़ा तापमान

10 सितम्बर: 35.6

11 सितम्बर: 35.5

12 सितम्बर: 35.6

13 सितम्बर: 35.6

14 सितम्बर: 36.5

15 सितम्बर: 36.5

16 सितम्बर: 36.9

डिग्री सेल्सियस

दस दिन और खिसका मानसून

मौसम केन्द्र जयपुर के प्रभारी निदेशक आरएस शर्मा ने बताया कि सामान्यता 17 सितम्बर से मानसून के लौटने की प्रक्रिया शुरू होती है, लेकिन बंगाल की खाड़ी व उससे लगने वाले आंध्रप्रदेश के तट पर एक कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इसके प्रभाव से एक बार पुन: राÓय के ऊपर मानसून ट्रफ व पूर्वी हवाएं होगी। इससे हाड़ौती, भीलवाड़ा समेत कुछ जगहों पर 18 व 19 सितम्बर को बारिश के आसार बन रहे है। अभी ट्रांजेशन फेज बना हुआ है। मानसून दस और और खिसक गया है। मानसून धीरे-धीरे जाएगा। इन दिनों आसमान में बादल साफ है। सूर्य की किरणें तेज होने से गर्मी का असर बढ़ रहा है।

Abhishek Gupta
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned