न ये मान रहे न वो..पार्षदों का धरना जारी, वार्ता बेनतीजा

आयुक्त चैम्बर के बाहर करते रहे भजन-कीर्तन- जिन समस्या के लिए पार्षद लड़ रहे, जतना है परेशान

 

कोटा. भाजपा के 30 से अधिक पार्षदों ने दूसरे दिन गुरुवार को भी आयुक्त चैम्बर के बाहर धरना दिया। शाम को महापौर महेश विजय, उप महापौर सुनीता व्यास ने पार्षदों के प्रतिनिधि के रूप में आयुक्त वासुदेव मालावत के साथ वार्ता की। इसमें तीनों उपायुक्त व अधीक्षण अभियंता भी शामिल थे, लेकिन एक भी मांग पर सहमति नहीं बनी। इस कारण वार्ता बेनतीजा खत्म हो गई। पार्षद शुक्रवार को फिर धरने पर बैठेंगे।

घोटाले के आरोपों पर भड़के महापौर, बोले, 'राजनीति चमकाने के
लिए मुझ पर लांछन लगा रहे नेता प्रतिपक्ष सुवालका'

जिन समस्याओं को लेकर पार्षद धरना दे रहे हैं, अधिकारी उनका समाधान करने के बजाए टालमटोल कर रहे हैं। त्योहार के सीजन में रोड लाइटें खराब पड़ी हैं। सफाई व्यवस्था के बुरे हाल हैं, लेकिन अधिकारी सुध नहीं ले रहे।
पार्षद दोपहर करीब 12 बजे उप महापौर के चैम्बर में एकत्र हुए, यहां से एक साथ आयुक्त कार्यालय के समक्ष धरना देने के लिए रवाना हुए। आयुक्त चैम्बर के सामने पुलिस ने पार्षदों को धरना नहीं देने को कहा, इसे लेकर पार्षदों की पुलिस के साथ तीखी बहस हुई और तनातनी की नौबत आ गई। पुलिस की आपत्ति के बाद भी पार्षद आयुक्त चैम्बर के बाहर ही धरने पर बैठे। पार्षद यहां भजन कीर्तन करते रहे। पार्षद विवेक राजवंशी, नरेन्द्र हाड़ा, महेश गौतम लल्ली, गोपालराम मण्डा, रमेश आहूजा, विनोद नायक आदि ने सम्बोधित करते हुए कहा कि अधिकारियों का टालमटोल वाला रवैया नहीं चलने लेंगे। कोटा में रहना है तो काम करना ही पड़ेगा। धरने पर पार्षद पति भी शामिल हुए।

Rajesh Tripathi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned