सरपंच पति कर रहा था दलाली, 20 हजार मांगे 10 हजार में सौदा तय हुआ

- रिश्वत प्रकरण : सरपंच पति का पंचायत के सभी कार्यों में था पूरा दखल

By: Ranjeet singh solanki

Published: 17 Mar 2021, 09:02 PM IST

कोटा. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) कोटा ग्रामीण की टीम ने बुधवार को लाडपुरा पंचायत समिति की गंदीफली की सरपंच निर्मला बाई मीणा तथा उसके पति गलाना निवासी महावीर मीणा को एक गैस एजेन्सी का साइड प्लान के नक्शे पर हस्ताक्षर करने की एवज में दस हजार रुपए की घूस लेते हुए गिरफ्तार किया। सरपंच निर्मला मीणा का पंचायत का सारा काम उसका पति महावीर मीणा ही देख रहा था। सरपंच पति का पंचायत के कामों में पूरा दखल रहता था। आरोपी महावीर ने सरपंच के नाम पर दलाली शुरू कर दी थी। वह बिना पैसे लिए कोई काम नहीं करता था। वह बेखौफ होकर जो भी लोग पंचायत में काम के लिए जाते थे, उनसे सीधे ही रुपयों की मांग करता था। गैस एजेंसी संचालक से घूस की मांग करते वक्त भी उसे तनिक भी अहसास नहीं था कि उस पर एसीबी की नजर है। फरियादी विष्णु नागर ने बताया कि उसका गंदीफली के भगवानपुरा में गैस गोदाम है। उसे विस्फोटक नियंत्रण विभाग से एनओसी को रिनुअल करवाना था। इसके लिए गोदाम के साइड प्लान पर सरपंच की सहमति के लिए उनके हस्ताक्षर होते हैं। इसके लिए सरपंच से सम्पर्क किया तो उसने कहा कि उनके पति महावीर ही सारा काम देखते हैं। उसने महावीर मीणा से सम्पर्क किया तो उसने नक्शे के सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करने की एवज में 20 हजार रुपए की मांग की। काफी आग्रह करने पर 10 हजार रुपए में हस्ताक्षर करने के लिए तैयार हो गया। वह रिश्वत नहीं देकर घूसखोर को सबक सिखाना चाहता था, इसलिए एसीबी से सम्पर्क किया। एसीबी ने तत्काल कार्रवाई करते हुए ट्रैप कर लिया। निर्मला मीणा राजनीति में सक्रिये नहीं है। वह गृहिणी है और स्वयं सहायता समूह से जुड़ी हुई थी। गंदीफली की सरपंच की सीट एसटी महिला वर्ग के लिए आरक्षित हुई तो वह जनवरी 2020 में हुए चुनाव में लड़कर सरपंच बनी। सरपंच बनने के 15 माह में ही वह एसीबी के हत्थे चढ़ गई।

BJP Congress
Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned