REET 2021 : बूंदी में पकड़ा मुन्नाभाई, परीक्षार्थी से 8 लाख रुपये में तय हुआ था सौदा

बूंदी. रीट परीक्षा में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए कई तरह के इंतजाम किए, इसी का परिणाम रहा कि ऐसे लोग पुलिस के हत्थे चढ़े। ऐसा ही मामला रविवार को परीक्षा के दौरान बूंदी के राजकीय महाविद्यालय परीक्षा केंद्र में सामने आया। यहां जांच के दौरान एक फर्जी छात्र बनकर परीक्षा देते हुए एक जने पकड़ा। बाद में मौके पर पहुंची कोतवाली थाना पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पकड़ा गया आरोपी तृतीय श्रेणी शिक्षक निकला।

By: Deepak Sharma

Published: 26 Sep 2021, 09:27 PM IST

बूंदी. रीट परीक्षा में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए कई तरह के इंतजाम किए, इसी का परिणाम रहा कि ऐसे लोग पुलिस के हत्थे चढ़े। ऐसा ही मामला रविवार को परीक्षा के दौरान बूंदी के राजकीय महाविद्यालय परीक्षा केंद्र में सामने आया। यहां जांच के दौरान एक फर्जी छात्र बनकर परीक्षा देते हुए एक जने पकड़ा। बाद में मौके पर पहुंची कोतवाली थाना पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पकड़ा गया आरोपी तृतीय श्रेणी शिक्षक निकला।
प्राप्त जानकारी के अनुसार राजकीय महाविद्यालय के कक्ष संख्या - 24 में जालौर जिले के अरनिया गांव निवासी प्रकाशचंद पुत्र मांगीलाल विश्नोई का नम्बर आया था, लेकिन उसके स्थान पर जालौर जिले के पैमाना गांव निवासी श्रवण कुमार पुत्र नागजी विश्नोई बैठा मिला। जब ड्यूटी पर तैनात शिक्षक को शंका हुई तो उन्होंने परीक्षार्थी से आधार कार्ड मांग लिया। जब आधार कार्ड सौंपा तो प्रवेश पत्र और आधार कार्ड में फोटो और नाम अलग-अलग मिले। ऐसे में उसे परीक्षा देने से रोका गया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और उसे पकड़ा। पुलिस पूछताछ में सच्चाई सामने आ गई। पकड़ा गया फर्जी छात्र तृतीय श्रेणी शिक्षक निकला। जिस विद्यार्थी को परीक्षा देने आने था, शिक्षक उसका जानकार था।
कोतवाली थानाधिकारी सहदेव मीणा ने बताया कि प्रथम दृष्टयता मामला पूछताछ में सामने आया कि आरोपी शिक्षक ने परीक्षार्थी से 8 लाख रुपये में परीक्षा देने का सौदा तय किया था। आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उस गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने परीक्षा देने नहीं आए छात्र की भी तलाश शुरू कर दी।

REEt 2021
Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned