ये कैसी परीक्षा जिसमें ट्रेक कार्य करने वाले फेल हो जाते हैं

कोटा रेल मंडल में ट्रेकमैन वर्ग के कार्मिकों की पदोन्नति परीक्षा पर रेलवे एम्पलाइज यूनियन ने सवाल उठाए हैं और आंदोलन की चेतावनी दी है।

By: Jaggo Chand Singh

Published: 21 May 2020, 06:15 AM IST

कोटा. पश्चिम मध्य रेलवे में पदोन्नति का इंतजार कर रहे करीब 100 ट्रेकमैन वर्क के कर्मचारियों के परीक्षा में फेल होने के बाद रेलवे एम्पलाइज यूनियन और अधिकारियों के बीच टकराव शुरू हो गया है। यूनियन का आरोप है कि परीक्षा में पास हुए ऐसे कर्मचारियों की संख्या काफी है जिन्होंने कभी फील्ड में काम नहीं किया। वे अफसरों के बंगलों में काम करते थे, इसलिए उन्हें पास कर दिया गया। यूनियन पदाधिकारियों ने कहा, ये कैसी परीक्षा है जिसमें ट्रेक पर दिन-रात हर मौसम में कार्य करने वाले फेल हो जाते हैं और अधिकारियों के घर काम करने वाले पास हो जाते हैं। वहीं रेलवे अधिकारियों के अनुसार सबकुछ नियमों के मुताबिक हुआ है। उन्होंने आरोपों को आधारहीन बताया है। इस मामले में रेलवे एम्पलाइज यूनियन ने कड़ी आपत्ति जताते हुए कोटा डीआरएम से दुबारा पदोन्नति सूची जारी करने की मांग रखी है। यूनियन के महामंत्री मुकेश गालव ने बताया कि महाप्रबंधक से पुरस्कृत ट्रेकमैन भी अपात्र घोषित कर दिए गए हैं। इससे काम करने वाले कर्मचारियों का मनोबल टूटेगा। यदि संशोधित सूची जारी नहीं हुई तो आंदोलन किया जाएगा।
यूनियन के महामंत्री मुकेश गालव ने जारी सूची पर आपत्ति जताते हुए कहा कि वर्तमान में महाप्रबंधक से पुरस्कृत, मंडल रेल प्रबंधक स्तर पर पुरस्कृत, उत्कृष्ट, बहुत अच्छी श्रेणी की एसीआर वाले कर्मचारी पिछले कई वर्षों से रेलवे का कार्य बखूबी निभा रहे हैं। इतना ही नहीं ऐसे कर्मचारी इसके साथ-साथ अन्य रिक्त पदों का कार्य भी संभाल रहे हैं। ऐसे सभी कर्मचारियों का नाम इस घोषित परिणाम में दर्शाया नहीं गया है।

Show More
Jaggo Chand Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned