सरकार ने हाथ खड़े किए, टिड्डी से नुकसान किसान भुगतेंगे

फसल बीमा में भी नुकसान कवर नहीं होगा

By: Ranjeet singh solanki

Published: 12 Jul 2020, 06:03 PM IST

कोटा। हाड़ौती समेत पश्चिमी राजस्थान में इस बार खरीफ की फसल में टिड्डियों के बड़े पैमाने पर हमले की संभावना जताई गई है। कृषि विभाग की ओर से फसलों को भारी नुकसान के चलते अलर्ट जारी कर दिया है। किसानों को भी सचेत रहने को कहा गया है। किसानों की फसलों को होने वाले किसान की भरपाई कैसे होगी, इस पर सरकार तंत्र मौन है। अभी तक टिड्डी नुकसान से मुआवजे का भी प्रावधान नहीं है। वहीं किसान संगठन राष्ट्रीय आपदा में इसको शामिल करने की मांग उठा रहे हैं।सरकार की ओर से खरीफ की फसलों के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बीमा करवाया जा रहा है। फसलों का बीमा करवाने की अंतिम तिथि 15 जुलाई है। फसल बीमा में कम बारिश होना, अतिवृष्टि व अन्य नुकसान को ही कवर करने का प्रावधान है। टिड्डी से होने वाले नुकसान को फसल बीमा में कवर नहीं किया गया है। आपदा राहत में भी टिड्डी नुकसान की भरपाई नहीं होगी। इस कारण खरीफ की बुवाई करते हुए किसान हिचक रहे हैं। महंगे खाद-बीज लेकर बुवाई करेंगे और टिड्डी दल का हमला हो गया तो फसलें पूरी तरह चौपट हो जाएगी। सरकार की ओर से टिड्डी नियंत्रण के लिए व्यापक बंदोबस्त शुरू कर दिया हैं। कोटा में निगरानी और नियंत्रण के लिए त्रिस्तरीय प्रशानिक व्यवस्था लागू की है। संभाग मुख्यालय के अधिकारियों को जिला स्तर पर निगरानी और नियंत्रण के लिए टॉस्क दे दिया गया है। किसान नेता दशरथ कुमार का कहना है कि टिड्डी संकट को राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाना चाहिए। राज्य सरकार को इस बारे में केन्द्र को जल्द प्रस्ताव भेजा जाना चाहिए। राष्ट्रीय किसान संगठन के राष्ट्रीय मंत्री जगदीश शर्मा का कहना है कि केन्द्र और राज्य सरकार को मिलकर टिड्डी नियंत्रण के लिए अभी से ठोस कदम उठाने की जरूरत है। फसल बीमा या राष्ट्रीय आपदा में शामिल किया जाना चाहिए।
पूरी तैयारी
कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक डा. रामावतार शर्मा का कहना है कि टिड्डी नियंत्रण के लिए विभाग पूरी तरह तैयार है। विशेष टीमों का गठन कर दिया गया है। संभागीय आयुक्त के निर्देश पर संभाग, जिला स्तर व उपखण्ड स्तर पर अधिकारियों की टीमें लगा दी है। फसल बीमा में टिड्डी नुकसान कवर नहीं होगा। अभी तक न आपदा में कवर होगा।

BJP Congress
Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned