खामोश हुई सहरिया हक की दमदार आवाज

shailendra tiwari

Publish: Jul, 13 2018 07:53:28 PM (IST)

Kota, Rajasthan, India
खामोश हुई सहरिया हक की दमदार आवाज

शक्ति ग्यारसी बाई का निधन, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने बनाई थी फिल्म, आमिर खान ने किया था सम्मान

 

भंवरगढ़/बारां. सिविल सोसाइटी की ओर से शक्ति पुरस्कार प्राप्त व बारां जिले को विश्व पटल पर पहचान दिलाने वाली सहरिया समाज की शख्सियत एवं जाग्रत महिला संगठन व संकल्प संस्था की वरिष्ठ कार्यकर्ता ग्यारसीबाई सहरिया (58) का गुरुवार रात आकस्मिक निधन हो गया। देर रात भंवरगढ़ स्थित संस्था परिसर में उन्हें अचानक दिल का दौरा पड़ा। इसके बाद उन्हें चिकित्सालय ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। शुक्रवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया।

जेडीबी में छात्राएं 'मुर्गी' बनी, अंडे दिए!

बंधुआ मजदूरी, सूचना का अधिकार, मनरेगा व महिला हिंसा से जुड़े मुद्दों पर दमदारी से आवाज उठाने वाली ग्यारसीबाई जिले के आदिवासी अंचल में सहरिया महिलाओं का प्रतिनिधित्व करती थीं।

Read More:लड़कियों पर फब्तियों कसने वालो को अब मिलेगा आक्रामक जवाब

उन्हें कई मौकों पर सम्मानित किया जा चुका है। गत आठ मई को बारां में आयोजित कार्यक्रम में पत्रिका समूह के प्रधान संपादक डॉ. गुलाब कोठारी ने भी ग्यारसीबाई को सम्मानित किया था।अमरीका में भी नाम हॉल ऑफ द फेम, सिविल सोसायटी की ओर से ग्यारसीबाई को स्त्री शक्ति पुरस्कार से नवाजा गया। सत्यमेव जयते कार्यक्रम में अभिनेता आमिर खान ने उनका सम्मान किया। इसके अलावा अमरीका की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की टीम द्वारा उन पर एक फिल्म का निर्माण किया।

Read More:कहीं आप तो नहीं है सूदखोरों की ना समझ गणित के शिकार

ऐसे बढ़े कदम
संकल्प संस्था के महेश बिंदल ने बताया कि किशनगंज क्षेत्र के एक छोटे से गांव फल्दी की निवासी ग्यारसी बाई 1992 से आदिवासी अंचल में सहरिया व अन्य पिछड़े वर्ग के लिए काम कर रही थीं। अभावों से जूझने के बावजूद वे पीछे नहीं हटीं। साक्षर ग्यारसी बाई पिछले काफी समय से कम्प्यूटर पर काम कर रही थी। उनकी प्रेरणा से कई बालिकाएं कम्प्यूटर ज्ञान पाने के लिए आगे आईं

आरटीयू में क्रेडिट सिस्टम लागू, पहले साल से शुरू होगी ट्रेनिंग

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned