दो नाबालिग बहनों को तीन दिन बंधक बना किया बलात्कार

बारां. शहर की दो नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। दोनों पीडि़ताओं ने गुरुवार दोपहर को मीडिया को दिए बयान में आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें दो लड़के उन्हें बहला फुसलाकर घर से ले गए तथा जयपुर व कोटा में तीन दिन तक उनके साथ बलात्कार करते रहे। पीडि़ताओं ने लगाया पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप

By: Deepak Sharma

Published: 30 Sep 2020, 10:42 PM IST

बारां. शहर की दो नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। दोनों पीडि़ताओं ने गुरुवार दोपहर को मीडिया को दिए बयान में आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें दो लड़के उन्हें बहला फुसलाकर घर से ले गए तथा जयपुर व कोटा में तीन दिन तक उनके साथ बलात्कार करते रहे। इन दोनों बहनों को उनके पिता गाड़ी से पुलिस को कोटा ले जाकर बारां लाए। यहां उन्हें तीन दिन तक सखी केन्द्र में रखा गया। जबकि पुलिस ने आरोपितों को शहर कोतवाली के बाहर ही छोड़ दिया। इस मामले में महिला थाना प्रभारी लच्छीराम का कहना है कि मामले की तफ्तीश चल रही है। पीडि़ताओं का मेडिकल कराया है। तफ्तीश में जो तथ्य सामने आएंगे, उनके अनुरूप विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बलात्कार के बारे में पूछने पर तफ्तीश का हवाला देकर पल्ला झाड़ लिया।

पीडि़ताओं ने पुलिस को दिए बयान में दो युवकों के नाम बताए हैं तथा दो-तीन अन्य आरोपियों को नहीं पहचानने की जानकारी दी है।

बहला, फुसलाकर ले गए थे
मीडिया से चर्चा में पीडि़ताओं ने बताया कि उन्हें दो युवक बहला फुसलकार १८ सितम्बर को कोटा ले गए। बाद में उन्हें जयपुर ले गए। इन दोनों के साथ दोनों शहरों में बारी-बारी से सामूहिक बलात्कार किया गया। एक पीडि़ता ने बताया कि आरोपी उन्हें पहले कोटा ले गए तथा वहां से जयपुर ले गए। जहां दोनों युवकों ने तीन और जनों को बुला लिया। जहां रेलवे स्टेशन के समीप दोनों बहनों के साथ बलात्कार किया। बाद में आरोपी उन्हें वापस कोटा ले आए। वहां भी उसके साथ बलात्कार किया गया। विरोध करने पर आरोपियों ने उनके माता, पिता को जान से मारने की धमकी दी। पीडि़ताओं ने पुलिस पर दोनों आरोपियों को छोडऩे का आरोप भी लगाया है। वे युवकों की धमकी से खामोश रही।

खाना खाने बाद हो जाती थीं अचेत
पीडि़ताओं का अरोप है कि उन्हें जयपुर व कोटा में होटलों में रखा गया। जहां आरोपी खुद बाहर से खाना लाकर खिलाते थे तथा खाने के बाद वे दोनों अचेत हो जाती थी। इसके बाद उनके साथ बलात्कार किया जाता था। पीडि़ताओं का आरोप है कि उन्हें तीन दिन तक बंधक बना कर रखा गया।इस दौरान उनके साथ कई बार बलात्कार किया गया। कोटा में होश में आने के बाद उक बहन ने २१ सितम्बर को मोबाइल से फोन पर उनके पिता को जानकारी दी। इसके बाद पिता गाड़ी में पुलिस को लेकर कोटा पहुंचे तथा दोनों बहनों के साथ दोनों युवकों को बारां ले आए। यहां उन्हें सखी केन्द्र में रखा गया। दो दिन बाद पुलिस ने जांच करा उन्हें घर भेज दिया।

मजिस्टे्रट के समक्ष कराए बयान
पुलिस उपाधीक्षक (महिला अपराध अनुसंधान सेल) राकेश शर्मा ने बताया कि गत 18 सितम्बर को दो नाबालिग बहने घर से बिना बताए गायब हो गई थी। सुबह परिजनों को दोनों घर से लापता मिली। इसके बाद 19 सितम्बर को महिला थाने पर दो युवकों पर संदेह जताते हुए मुकदमा दर्ज कराया गया। इसके बाद 21 सितम्बर को पुलिस ने कोटा से दोनों बहनों को दस्तयाब किया। बाद में बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया तथा सखी केन्द्र पर रखा गया। इस दौरान उनका मेडिकल भी कराया गया तथा मजिस्ट्रेट के समक्ष धारा 164 के बयान कराए गए। बयानों में दोनों ने कहा था कि ना तो उन्हें कोई भगाकर ले गया और ना किसी ने उनके साथ बलात्कार किया।

तो दुबारा कराएंगे बयान
पुलिस अधीक्षक डॉण् रवि सबरवाल ने कहा कि दोनों नाबालिग ने सखी केन्द्र में मजिस्ट्रेट के समक्ष 23 सितम्बर को दिए 164 के बयानों में कहा था कि ना तो कोई बहाला।फुसलाकर ले गया, ना उनके साथ किसी तरह का गलत होने जैसी बात नहीं कही थी। फिर भी उन्हें लगता है कि पूर्व में दबाव में बयान दिए गए थे तो मजिस्ट्रेट की अनुमति से दुबारा बयान दर्ज करा दिए जाएंगे। उसमें जो तथ्य सामने आएंगे उस पर नियमानुसार प्रभावी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Show More
Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned