Mansoon's U turn : लौट रहे मानसून का यू-टर्न , राजस्थान में कई नदियां उफान पर व बांध छलके

-राजस्थान के चेरापूंजी झालावाड़ में सबसे अधिक बरसात
-कोटा, बूंदी, अजमेर, जोधपुर, बांसवाड़ा सहित कई जिलों में बरसात का दौर जारी
-चम्बल नदी उफान पर, कोटा से धौलपुर तक बढ़ी है धड़कन

By: KR Mundiyar

Updated: 19 Sep 2021, 10:18 PM IST

- कोटा बैराज, कालीसिंध बांध व भीमसागर बांध से पानी की निकासी जारी
-बूंदी के गुढ़ा बांध के दस गेट खोलकर की जल निकासी
-चम्बल के बांधों से जल निकासी के कारण कोटा से धौलपुर तक अलर्ट

कोटा.
विदाई ले रहे मानसून के यूटर्न होकर लौटने से राजस्थान के कई जिले पानी-पानी हो गए हैं। कई नदियां उफान पर चल रही है तो कई जिलों के बांध छलक पड़े हैं। बांधों से पानी की निकासी लगातार जारी रहने से नदियों में बाढ़ जैसे हालात है। चम्बल नदी के बांधों में पानी की अधिक आवक के चलते कोटा से लेकर धौलपुर तक अलर्ट जारी किया गया है। सबसे अधिक बरसात राजस्थान के चेरापूंजी कहे जाने वाले झालावाड़ जिले में हुई हैं। बीते 24 घंटे में झालावाड़ जिले मेंं 430 एमएम बरसात दर्ज की जा चुकी है। झालावाड़ जिले के कालीसिंध बांध से पानी की निकासी जारी है। उजाड़ नदी में पानी की आवक एवं भीमसागर बांध से पानी की निकासी जारी रहने से कोटा जिले के इटावा-सांगोद क्षेत्र में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। इधर रविवार को बूंदी जिले में तेज बरसात के बाद गूढ़ा बांध के दस गेट खोलकर पानी की निकासी शुरू की गई।
मध्यप्रदेश व पूर्वी राजस्थान में कम दबाव का क्षेत्र बनने से कई जिलों में बरसात का मौसम बन गया और शुक्रवार से लगातार बरसात हो रही है। रविवार को तीसरे दिन भी राजस्थान के कई हिस्सों में बरसात का दौर जारी रहा। बांसवाड़ा, कोटा, बूंदी, झालावाड़, अजमेर, जोधपुर सहित अन्य जिलों में भी अच्छी बरसात हुई है।

बूंदी के गुढ़ा बांध के दस गेट खोलकर की जल निकासी
- अलोद, चेता, बीचड़ी गांव में घुसा पानी
- आधा दर्जन से अधिक मार्ग बंद
बूंदी जिले में लगातार हो रही बारिश के चलते गुढ़ा बांध के 10 गेट खोलकर पानी की निकासी की गई। ऐसे में अलोद, चेता, बीचड़ी गांव में एक-एक फीट पानी भर गया। बंूदी शहर में रात से ही बारिश होने से जैतसागर झील के 6 गेट व नवल सागर में 4 गेट खोले गए। इससे शहर की निचली बस्तियों में पानी भर गया। बूंदी में 68, तालेड़ा में 108, केशवरायपाटन में 45, इन्द्रगढ़ में 7, नैनवां में 5, हिण्डोली में 23 एमएम बारिश दर्ज की गई।

चम्बल : राणाप्रताप सागर बांध डेढ़ फीट खाली-

इधर, कोटा बैराज का एक गेट खोलकर 1256 क्यूसेक पानी की निकासी जारी है, जबकि चम्बल पर बने सबसे बड़े गांधीसागर 1312 फीट भराव क्षमता से सात फीट खाली है। राणाप्रताप सागर बांध भराव क्षमता 1157.50 फीट के मुकाबले डेढ़ फीट खाली है। जवाहर सागर बांध 980 फीट के मुकाबले जलस्तर 972.20 फीट बना हुआ है। यहां पनबिजलीघर से विद्युत उत्पादन कर 1593 क्यूसेक पानी की निकासी जारी है.

कोटा संभाग में बरसात-
जिला----औसत बरसात---------अब तक कुल बरसात-----आज बरसात-------- 24 घंटे में बरसात
कोटा---- --716.6---------------1130.6 एमएम- -----------3.7 एमएम- ----------41.6 एमएम
-----
झालावाड़- --900 एमएम-------1052.20 एमएम- -----1 एमएम - --------------430.5 एमएम
-----
बारां-------- 750 एमएम-------- 1150 एमएम- ------------नहीं- -------------------8.875 एमएम
-----
बूंदी- ----------768 एमएम- ------972एमएम-------------- 11 एमएम------------ 68 एमएम

Mansoon's U turn  :  लौट रहे मानसून का यू-टर्न , राजस्थान में कई नदियां उफान पर व बांध छलके

बूंदी जिले में ये मार्ग रहे बंद-
बूंदी जिले में घोड़ा पछाड़, मेज नदी व तालेड़ा नदी के उफान पर आने से अकतासा-तालेड़ा मार्ग, धोवड़ा-बंूदी मार्ग, दबलाना-बूंदी मार्ग, चेता-बड़ानयागांव मार्ग, नमाना श्यामू मार्ग, नमाना-बूंदी मार्ग सुबह से ही बंद रहे।

Mansoon's U turn  :  लौट रहे मानसून का यू-टर्न , राजस्थान में कई नदियां उफान पर व बांध छलके

झालावाड़ : कालीसिंध के दो व छापी का एक गेट खुला
बीते 24 घंटे में झालावाड़ जिले मेंं 430 एमएम बरसात दर्ज की जा चुकी है। कालीसिंध के दो गेट खोलकर 24 हजार 770 क्यूसेक, छापी बांध का एक गेट खोलकर 2802.95 क्यूसेक, पिपलाद बांध का एक गेट खोलकर 334.75 क्यूसेक, राजगढ़ बांध का एक गेट खोलकर 6386.57 क्यूसेक पानी की निकासी की गई। अकलेरा व पिड़ावा में एक-एक एमएम बारिश दर्ज की गई। शनिवार को कई क्षेत्रों में तेज बारिश होने से जो नदियां उफान पर चल रही थी, उनमें पानी की आवक कम हो गई। इससे बंद मार्गों पर वापस आवागमन शुरू हो गया। झालावाड़ में अब तक 1052.12 एमएम बारिश हो चुकी है। बारां जिले में बादल छाए रहे, लेकिन बारिश नहीं हुई।

Mansoon's U turn  :  लौट रहे मानसून का यू-टर्न , राजस्थान में कई नदियां उफान पर व बांध छलके

कोटा- श्योपुर व खातौली-सवाईमाधोपुर मार्ग बंद-
कोटा शहर समेत जिले भर रविवार को रूक-रूक कर बरसात का दौर जारी रहा। दोपहर बाद रिमझिम बारिश हुई। शाम 6 बजे नए कोटा के कई क्षेत्रों में तेज बारिश हुई। मौसम विभाग के अनुसार बीते 24 घंटे में 41.6 एमएम बारिश दर्ज की गई। कोटा में इस मानसून सीजन की अब तक 1130.6 एमएम बारिश दर्ज हो चुकी है। जिले के खातौली स्थित पार्वती नदी में सुबह पानी की आवक के चलते कोटा-श्योपुर मार्ग दिनभर बंद रहा। सुबह ढीपरी कालीसिंध नदी पुल पर पानी होने से कोटा से आने वाली बसें खातौली नहीं पहुंच सकी। शाम तक पार्वती नदी के जल स्तर में गिरावट नहीं होने से देर शाम तक पुल पर पानी का जल स्तर तीन फीट बना हुआ था। वहीं खातौली-सवाईमाधोपुर मार्ग चंबल झरेल पुल पर पानी की आवक के चलते ढाई माह से बंद है।

Mansoon's U turn  :  लौट रहे मानसून का यू-टर्न , राजस्थान में कई नदियां उफान पर व बांध छलके
Show More
KR Mundiyar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned