मंत्री धारीवाल बोले- जांच में सामने आया केईडीएल का फर्जीवाड़ा, 35 हजार की जगह 1 करोड़ का भेजा बिजली बिल

Zuber Khan

Updated: 10 Dec 2019, 06:10:06 PM (IST)

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ( UDH Minister Shanti Dhariwal ) ने निजी बिजली कंपनी केईडीएल ( private power companies KEDL ) पर बिलों और वीसीआर में भारी गड़बड़ी करने के गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने सरकार द्वारा करवाई जांच के दस्तावेज दिखाते हुए बताया कि किशोर सागर पर विद्युत कनेक्शन का वास्तविक उपभोग व मीटर के आधार पर बिल 35 हजार 400 रुपए बनता है, लेकिन केईडीएल ने 1 करोड़ 9 हजार का बिल भेज दिया।

Read More: कोटा में उग्र हुए 150 कांग्रेस कार्यकर्ता, केईडीएल ऑफिस में घुसकर अधिकारी को लात-घूसों से जमकर धोया

इसी तरह 257 स्थानों पर स्वयं के स्तर पर विद्युत कनेक्शन स्थापित करके इनके बिल नगर निगम को भिजवा दिए। इन कनेक्शनों के लिए नगर निगम ने कभी आवेदन ही नहीं किया। कंसुआ आवासीय योजना में विद्युत कनेक्शन उपलब्ध होने के बाद भी दो जगह अतिरिक्त कनेक्शन स्थापित करके एक करोड़ 10 लाख का बिल जारी कर दिया, जबकि पूरी कॉलोनी का बिल 8 लाख 61 हजार रुपए ही आया।

Read More: बिजली बिलों पर केईडीएल की सफाई से भड़के कांग्रेसी, पुलिस की मौजूदगी में अधिकारी को मारे चांटे, तमाशा देखती रही खाकी

केईडीएल ने जनवरी से दिसम्बर 2018 तक 29 करोड़ के बिल प्रस्तुत किए गए। इनमें से 129 बिलों में अप्रत्याशित रूप से मनमानी तरीके रीडिंग दिखाकर बिल जारी किए गए। इन बिलों में 36 लाख अधिक यूनिट देकर 2.88 करोड़ के अधिक राशि के बिल अवैध रूप से भेजे गए। इसके अतिरिक्त 32 कनेक्शन ऐसे पाए गए जिनमें बिल वास्तविक रीडिंग के आधार पर देने के बजाय प्रोविजनल आधार पर जारी कर दिए। इन बिलों में वास्तविक रीडिंग के आधार पर बिल बनाने पर 80 लाख यूनिट का अंतर आता है।

Read More: मंत्री धारीवाल ने दिए केईडीएल के खिलाफ FIR दर्ज करवाने के आदेश, 60 करोड़ के बिजली बिल में मिली गड़बडिय़ां

केईडीएल 2016-17 से कार्यरत है। तब से अब तक रोड लाइट के पेटे में 60 करोड़ के बिल दिए गए हैं। इनकी जांच की जा रही है। तब तक के लिए नगर विकास न्यास और नगर निगम के स्ट्रीट लाइटों के बिलों के भुगतान पर रोक लगा दी है। सरकार ने नगर निगम, नगर विकास न्यास और आवासन मंडल को एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए गए हैं। पुलिस इस परिवाद की जांच कर रही है। एफआईआर के लिए नगर निगम के 200 पृष्ठों के दस्तावेज पुलिस को सौंपे हैं।

Read More: कोटा में फसलों की रखवाली करने खेत पर गया किसान की सर्दी से मौत, परिवार में मचा कोहराम

तीन साल से आ रही शिकायतें
धारीवाल ने कहा, तीन साल से शिकायतें मिल रही थी कि बिजली के बिलों में तीन चार गुना राशि जोड़कर गलत रीडिंग बताकर बिल बन रहे हैं। इस पर स्वायत्त विभागन ने अतिरिक्त मुख्य अभियंता को कोटा भेजा। उन्होंने नगर विकास न्यास और नगर निगम के विद्युत इंजीनियर को साथ लेकर जो जांच की गई उसमें केईडीएल की गड़बड़ी सामने आई। इस जांच का पुन: परीक्षण भी कराया गया। परीक्षण में भी यह पाया गया कि बढ़ा चढ़ाकर बिल दिया जा रहा है। इस बात की भी जांच की जा रही है कि कपंनी ने कितनी बिजली खरीदी और कितनी के बिल भेजे।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned