इन तीन कार्यो के बाद बदल जाएगी जेकेलोन अस्पताल की तस्वीर, 156 बेड का होगा,यूडीएच मंत्री धारीवाल 100 बच्चों की मौत बोले

100 बच्चों की मौत पर हंगामा होने के बाद सरकार ने बड़ा कदम उठाया, कोटा में चिकित्सा विभाग को 156 बेड का नया अस्पताल बनाने के आदेश जारी

कोटा. जेकेलोन अस्पताल में गत दिसम्बर माह में 100 बच्चों की मौत पर हंगामा होने के बाद सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोटा में चिकित्सा विभाग को 156 बेड का नया अस्पताल बनाने के आदेश जारी किए हैं। वहीं चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने इसका जल्द कार्य पूरा कराने के लिए नगर विकास न्यास को कार्यकारी एजेंसी बनाने का अनुरोध किया है।

इसके बाद नगर विकास न्यास ने इस योजना पर कार्य शुरू कर दिया है। नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने बताया कि अब सार्वजनिक निर्माण विभाग से कार्य नहीं कराया जाएगा।


नीकू, पीकू और ओपीडी भी बनेगा
बच्चों के नए अस्पताल में ओपीडी ब्लॉक का भी निर्माण किया जाएगा। भवन निर्माण पर 27 करोड़ खर्च होंगे। मशीन और उपकरणों के लिए मुख्यमंत्री बजट में प्रावधान करेंगे। नए अस्पताल में 90 सामान्य वार्ड के बेड, 36 नीकू और 30 पीकू वार्ड के बेड होंगे। इसकी स्वीकृति वित्त विभाग ने दे दी है। इसका निर्मित क्षेत्रफल 93 हजार 750 वर्गफीट होगा। नगरीय विकास मंत्री खुद विधायक निधि से जेकेलोन के लिए 1 करोड़ रुपए देंगे।

एमबीएस में बनेगा बहुमंजिला ब्लॉक
इसके अलावा कोटा मेडिकल कॉलेज के एमबीएस अस्पताल में 40 करोड़ रुपए की लागत से नया ओपीडी ब्लॉक बनेगा। इसका निर्मित क्षेत्रफल ढाई लाख वर्गफीट होगा। इसमें भूमिगत पार्किंग होगी। भूतल सहित तीन मंजिला भवन बनेगा। धारीवाल ने बताया कि मुख्यमंत्री के आदेश और चिकित्सा मंत्री के अनुरोध पर नगर विकास न्यास यह कार्य करेगा।

जेकेलोन अस्पताल का मुद्दा गहराने के बाद चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा भवन के रख रखाव में सार्वजनिक निर्माण विभाग की लापरवाही होने की बात कह चुके हैं। वहीं सार्वजनिक निर्माण विभाग के मंत्री और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इसे सरकार की जिम्मेदारी बताया। पायलट का दौरा होने के दूसरे दिन सार्वजनिक निर्माण विभाग ने यह बयान जारी किया था कि चिकित्सा शिक्षा विभाग ने समय पर राशि नहीं दी, इसलिए भवन का रख रखाव नहीं हो पाया।

अब नगरीय विकास मंत्री ने सार्वजनिक निर्माण विभाग से कार्य नहीं कराने की घोषणा की है। धारीवाल ने कहा, बजट नहीं आया तो इतना फंड तो होता ही है कि टूटी खिड़कियों को ठीक करा सकें, लेकिन यह भी नहीं किया।पत्रिका न्यू•ा नेटवर्क


कोटा. जेकेलोन अस्पताल में पिछले माह हुई 100 बच्चों की मौत को लेकर नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि पिछली भाजपा सरकार की व्यवस्था इसकी जिम्मेदार है। 2012 में कांग्रेस सरकार ने गायनिक के 45 और शिशुओं के लिए 60 बेड स्वीकृत किए, वे कहां गए।

वो होते तो ये हालात नहीं होते।

अस्पताल प्रशासन ने 2015 में 8 करोड़ मांगे, नहीं मिले। 2016 में 9.25 करोड़, मशीन और उपकरण भी नहीं मिले। 2019 में 20 करोड़ मांगे तो एक रुपया नहीं दिया गया। अस्पतालों से सौतेला व्यवहार किया। कोटा उत्तर के पूर्व विधायक ने पांच साल में 80 लाख रुपए दिए। मैने पिछले कार्यकाल में एमबीएस और जेकेलोन को 3 करोड़ 54 लाख रुपए दिए। अब मैं जेकेलोन अस्पताल को 1 करोड़ रुपए देने का विचार रखता हूं।


धारीवाल ने कहा, अस्पताल अस्वस्थ को स्वस्थ्य करने की जगह है। ऐसी जगह राजनीति करना निदंनीय है। भाजपा के जो नेता यहां आए, उनका स्वास्थ्य व्यवस्था सुधारने में कोई योगदान नहीं रहा। यहां ज्यादातर बच्चे गंभीर हालत में बाहर से रैफर होकर आते हैं। प्रदेश के अलावा मध्यप्रदेश से भी आते हैं।

यहां उन्हें बचाने का प्रयास किया जाता है, लेकिन कई बच्चे नहीं बच पाते, इसका दु:ख है। भाजपा शासन में इससे ज्यादा बच्चों की मौत हुई। तत्कालीन सरकार ने उनकी कभी जांच नहीं कराई। धारीवाल ने कहा, जेकेलोन में बच्चों की मौत को बड़ा मुद्दा बनाना भाजपा की साजिश है। भाजपा नेताओं ने दिल्ली से मीडिया बुलाकर कोटा की बदनामी कराई और यहां मरीजों के परिजनों को गुमराह करने का प्रयास किया।बच्चों की मौत के लिए पिछली सरकार की व्यवस्था जिम्मेदार

Show More
Suraksha Rajora Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned