योग शिक्षकों को मिलेगी फिजियोथैरेपिस्ट की डिग्री

योग शिक्षकों को मिलेगी फिजियोथैरेपिस्ट की डिग्री

यूजीसी ने स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर का सिलेबस किया जारी, सीबीएसई बोर्ड के स्कूलों में योग और सूर्य नमस्कार के भी मिलेंगे नंबर

योग शिक्षकों को अब फिजियोथैरेपिस्ट की डिग्री दी जाएगी। योग शिक्षा की प्रमाणिकता कायम करने के लिए यूजीसी ने फिजियोथैरेपी की पूरी पढ़ाई को योग पर केंद्रित कर दिया। 


Read More : पानी ने बना दिया मुर्गा... पढ़े क्या है मामला


यूजीसी ने  योग आधारित बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी और मास्टर ऑफ फिजियोथैरेपी का नया सिलेबस भी जारी कर दिया है। वहीं सीबीएसई बोर्ड ने सूर्य नमस्कार और योग करने पर छात्रों को अतरिक्त अंक देने के निर्देश जारी किए हैं। 


Video : प्रेमी जोड़े ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान


योग दिवस मनाए जाने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल के बाद विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) योग की प्रमाणिक पढ़ाई कराने में जुट गया है। खासी माथापच्ची के बाद नया कोर्स तैयार करने के बजाय यूजीसी ने फिजियोथैरेपी की पूरी पढ़ाई को ही योगमय बना दिया है। इसके लिए यूजीसी ने बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी (बीपीटी) और मास्टर ऑफ फिजियोथैरेपी  (एमपीटी) का पूरा पाठ्यक्रम तक बदल डाला।


Read More : निजी बिजली की पूरी कहानी पत्रिका में पढि़ए, क्या कैसे होगा


यह होगी पढ़ाई 

बीपीटी में छात्र रामायण, महाभारत से लेकर उपनिषद में योग की व्याख्या से लेकर पतंजलि योगसूत्र तक की पढ़ाई करेंगे। आठ सेमेस्टर में बंटे इस चार वर्षीय पाठ्यक्रम में पहले साल छात्र योग के मूल सिद्धांत सीखेंगे। पहले दो सेमेस्टर में फंडामेंटल ऑफ योगा,  ऐसे ही दूसरे साल फिलॉसफी ऑफ योगा, तीसरे साल एप्लीकेशन्स ऑफ योगा और चौथे साल थ्योरोपेथिक योगा की पढ़ाई कराई जाएगी। 


Read More :  जानिए... दूसरे शहरों में कैसी है निजी कंपनी की बिजली व्यवस्था


वहीं दो वर्षीय एमपीटी के छात्रों को योग की महारथ दिलाने के लिए योग क्रियाओं की व्यवहारिक पढ़ाई कराई जाएगी। सालाना पढ़ाई दो सेमेस्टर में बंटी होगी और हर सेमेस्टर में सौ अंक की थ्योरी का एक पेपर और पचास अंक का प्रेक्टिकल छात्रों को देना होगा।


Read More : क्या हाथ बदलने से बदलेगी बिजली व्यवस्था


सेहत बनाओ और नंबर भी बढ़ाओ

योग और सूर्य नमस्कार अब बच्चों के रिपोर्ट कार्ड की सेहत भी सुधारेगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के स्कूलों में अब सूर्य नमस्कार और योग करने पर छात्रों को अतरिक्त अंक दिए जाएंगे। 


Read More : अजब-गजब : तीन वर्ष की बालिका के पेट में भ्रूण


इन अंकों को मार्कशीट में भी जोड़ा जाएगा।  सीबीएसई ने स्कूलों के प्रधानाचार्यों को निर्देश दिए हैं  कि वे अपने यहां लागू समग्र सतत मूल्याकंन (सीसीई) प्रणाली में योग गतिविधि को भी शामिल करें और इसके एवज में बच्चों को अंक व ग्रेड दें।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned