खुद की योजनाएं बदहाल, गैर अनुमोदित में बहाएंगे पैसा

खुद की योजनाएं बदहाल, गैर अनुमोदित में बहाएंगे पैसा

shailendra tiwari | Publish: Jun, 14 2018 04:24:53 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

वाह रे नगर विकास न्यास दस से अधिक योजनाओं के विकास के लिए धन नहीं

कोटा. नगर विकास न्यास 'खुद का पूत तरसे, पराए को घी का थाल परोसे' की तर्ज सरकारी धन को गैर अनुमोदित कॉलोनियों के विकास पर खर्च करने का आमादा है। पिछले सालों में नगर विकास न्यास की ओर से 10 से ज्यादा बड़ी आवासीय योजनाएं लांच की हैं, लेकिन इनके विकास पर न्यास का ध्यान नहीं। नदी पार क्षेत्र में ही वर्ष 2011 में कुन्हाड़ी क्षेत्र में डेढ़ हजार से ज्यादा भूखंडों की मोहनलाल सुखाडि़या आवासीय योजना अब भी विकास को तरस रही। न पेयजल व्यवस्था है न ही पूरी तरह सड़कों का निर्माण हो पाया। पार्क भी मूर्त रूप नहीं ले सके। कॉलोनी में धड़ल्ले से अवैध खनन हो रहा। लाखों रुपए में खरीदे भूखंडों में बारूद लगाकर गहरे गड्ढे कर दिए गए, लेकिन न्यास ने रोकथाम तक की कार्रवाई नहीं की गई। हालत एेसी कि कोई भी मकान बनाकर यहां नहीं रह सकता।

हैवानियत: बारां के युवक की कोटा में निर्मम हत्या, पहले भारी वाहन से कुचला फिर तलवार से सिर काट हाइवे पर फेंक गए खूनी दरिंदे

 

रानपुर क्षेत्र की आवासीय योजना, मुकुंदरा विहार सहित कई योजनाएं अभी मूलभूत सुविधाओं को तरस रही हैं। राजीव आवास योजना के तहत करीब डेढ़ हजार आवास बनाए हैं, लेकिन न्यास को उनकी लॉटरी तक निकालने की फुर्सत नहीं है। जानकारों का कहना है कि न्यास की योजनाओं में भी आम लोगों ने अपनी गाढ़े पसीने की कमाई का पैसा लगाया है। ऐसे में उन्हें भी प्राथमिकता से सुविधाएं दी जानी चाहिए।

Read More: दिनभर लोगों ने भुगती न्यास और जलदाय विभाग की लापरवाही

 

कराएंगे विकास कार्य
न्यास की ओर से विकसित की गई योजना में भी विकास कार्य कराए जाएंगे। उन कॉलोनियों के लिए भी बजट में प्रस्ताव लिए हैं। पेयजल के लिए भी योजना बनाई जा रही है।
आर.के. मेहता, अध्यक्ष, यूआईटी

Read More:कोटा के इस इलाके में फैला रखा है मगरमच्छों ने आतंक, जानवरों के साथ इंसानों को भी बना रहे अपना शिकार

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned