जिस फौजी ने सरहद पर दुश्मनों को फटकने नही दिया वह अपनों के आगे हो रहा बेबस,वीर चक्र विजेता बोला,परिवार से है मुझे जान का खतरा

जिस फौजी ने सरहद पर दुश्मनों को फटकने नही दिया वह अपनों के आगे हो रहा बेबस,वीर चक्र विजेता बोला,परिवार से है मुझे जान का खतरा
जिस फौजी ने सरहद पर दुश्मनों को फटकने नही दिया वह अपनों के आगे हो रहा बेबस,वीर चक्र विजेता बोला,परिवार से है मुझे जान का खतरा

Suraksha Rajora | Updated: 09 Oct 2019, 07:34:47 PM (IST) Kota, Kota, Rajasthan, India

वीर चक्र विजेता कर्नल को परिवार से जान का खतरा

कोटा. जिस फौजी ने सरहद पर दुश्मनों को फटकने तक नहीं दिया, वहीं आज अपने घर में सुरक्षित नहीं है। नेहरू नगर लाल कोठी के पीछे ग्रेनेड विला में रहने वाले वीरचक्र विजेता कर्नल श्यामवीर सिंह व उनकी पत्नी आनन्द कंवर को अपने परिवार से ही जान का खतरा बना हुआ है।

उन्होंने एसपी को परिवाद देकर अपनी जान की सुरक्षा की मांग की है। उन्होंने यह बात बुधवार को प्रेस वार्ता में पत्रकारों से कही। आनन्द कंवर ने पत्रकारों से बताया कि ग्रेनेड विला में जिस मकान में रह रहे है वह हमने अपने पिता बने सिंह से खरीदा था, उसके सभी दस्तावेज उनके पास है।

पति कर्नल श्यामवीर सिंह का 1989 में तबादला कोटा में एनसीसी ग्रुप कमाण्डर के रूप में हुई तब से ही हम यहां रह रहे है। अब मेरे ससुराल पक्ष के लोग मकान पर कब्जा कर उन्हें बेदखल करना चाहते है। आए दिन बिना वजह लड़ाई झगड़ा करते रहते है और जान से मारने की धमकी देते है।

उन्होंने बताया कि वे अपनी सुरक्षा के लिए मकान की खिड़कियों में जालियां व सीसीटीवी कैमरे लगाना चाह रहे है। लेकिन वे नहीं लगाने देते। उन्होंने बताया कि दोनों बुजुर्ग है घर में नौकर व ड्राइवर था उसे भी इन लोगों ने भगा दिया। आनन्द कंवर ने बताया कि मेरे भतीजे राजवीर सिंह के खिलाफ हमने एसपी व थाने में भी परिवाद दे दिया उसके बावजूद वह हमें आए दिन मानसिक रूप से परेशान कर रहा है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned