एटीएम से राशि चुराने वाले शातिर गिरोह का पर्दाफाश

विज्ञान नगर थाना पुलिस ने एसबीआई के एटीएम से विशेष प्रकार के औजार का प्रयोग कर राशि चोरी करने वाले शातिर गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने तीन शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है।

By: Haboo Lal Sharma

Published: 06 May 2021, 10:27 PM IST

कोटा. विज्ञान नगर थाना पुलिस ने एसबीआई के एटीएम से विशेष प्रकार के औजार का प्रयोग कर राशि चोरी करने वाले शातिर गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने तीन शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है।

Read More: ट्रैक्टर व कार में भीड़ंत, दोनों के परखच्चे उड़े


थानाधिकारी अमरसिंह ने बताया कि टीएसआई प्रा. लि. के डिस्ट्रीक एक्जिक्यूटिव सचिन गौड़ ने थाने में रिपोर्ट दी। इसमें बताया कि 29 अप्रेल को विज्ञान नगर छोटी मस्जिद के निकट एसबीआई एटीएम से राशि निकालने के दौरान छेड़छाड़ की गई। जहां से राशि प्राप्त होती है, वहां लोहे का उपकरण लगाकर एटीएम ट्रांजेक्शन फैल बताने का प्रयास किया और उपकरण में फंसे नोटों को खींचकर निकाला गया। एटीएम की जांच करने पर 1 लाख 78 हजार रुपए कम पाए गए। शर्टर असेम्बली को तोड़कर नुकसान पहुंचाया गया। ऐसे ही गिरोह ने दौसा व टोंक स्थित एटीएम से भी छेड़छाड़ कर 1 लाख 37 हजार रुपए निकाल लिए। पुलिस ने मामला दर्ज करने के बाद टीम का गठन किया और जांच शुरू की।

Read More: कोविड महामारी में कालाबाजारी करने वालों की पैरवी नहीं करेंगे अधिवक्ता

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पकड़े आरोपी
टीम ने एटीएम के सीसीटीवी में मिले फुटेज के आधार पर आरोपियों की तलाश शुरू की। इस दौरान डकनिया इलेक्ट्रॉनिक्स कॉम्पलेक्स में हरियाणा नम्बर की एक कार को चैक किया। कार में हरियाणा के पलवल जिले के चांधट थाना क्षेत्र के घाघोट निवासी समीर (23) व आसिफ (22), इसी जिले के हथिन थाना क्षेत्र के लड़माकी निवासी इरशाद (22) मिले। तलाशी ली तो उनके पास एटीएम में छेडख़ानी कर प्रोसेस को बाधित करने वाले विशेष उपकरण (औजार), घटना में प्रयुक्त डेबिट कार्ड व मोबाइल फोन मिले। इनसे सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने विज्ञान नगर स्थित एसबीआई एटीएम में छेडख़ानी कर रुपए चुराना कबूला। उन्होंने 29 अप्रेल को ही दौसा व टोंक में भी एटीएम से इसी तरह रुपए चुराए। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस आरोपियों से अन्य वारदातों के बारे में भी पूछताछ कर रही है।

ऐसे की वारदात
आरोपियों ने बताया कि सबसे पहले एटीएम में लगे सीसीटीवी कैमरे को बंद कर देते हैं, ताकि उनकी रिकार्डिंग नहीं हो। डेबिट कार्ड से पैसे निकालते हंै और शर्टर असेम्बली जहां से पैसा प्राप्त होता है, वहां औजार को फंसा देते हैं और ट्रांजेक्शन को फैल बता देते हैं। फिर उपकरण की सहायता से रुपयों को पकड़कर बाहर निकाल लेते हैं। यह गिरोह उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र व राजस्थान के कई शहरों में सक्रिय है।

Haboo Lal Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned