Water crisis: पानी के बीच पानी के लिए संघर्ष, टैंकरों के भरोसे 6 लाख आबादी, आधे कोटा में मची त्राहि-त्राहि

Zuber Khan

Publish: Sep, 17 2019 06:15:06 PM (IST) | Updated: Sep, 17 2019 06:15:07 PM (IST)

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा . चंंबल में आई बाढ़ के बाद ( Flood in kota ) चरमराई जलापूर्ति व्यवस्था ( Water supply ) पटरी पर आने का नाम नहीं ले रही। यूडीएच मंत्री व जिला प्रशासन के दिशा निर्देशों के बाद सोमवार को कई इलाकों में टैंकरों से पानी पहुंचाया गया, लेकिन यह आबादी को देखते हुए ऊंट के मुंह में जीरा साबित हो रहा है। विभाग ने लोगों को और राहत देने के लिए अकेलगढ़ की लाइन को पुरानी लाइन से जोड़ा है। इससे आकाशवाणी कॉलोनी, स्टेशन क्षेत्र के कुछ इलाकों में पानी की समस्या से राहत मिलने की संभावना है। कोटा की जनसंख्या करीब 12 लाख है और यह समस्या आधे कोटा में बनी हुई है। ऐसे में करीब 6 लाख लोग पानी के लिए तरस रहे हैं।

Read More: बूंदी की तीन छात्राएं कुरेल नदी में बही, एक को बचाया, दो बालिकाओं का नहीं लगा सुराग, तलाश जारी

यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल व जिला कलक्टर के दिशा निर्देशों के बाद नगर विकास न्यास के सचिव भवानी सिंह पालावत के दिशा निर्देशों पर जिन इलाकों में जलापूर्ति प्रभावित हुई है, उन क्षेत्रों में टैंकरों से पानी पहुंचाया जा रहा है। विभाग के अधिशासी अभियंता भारत भूषण मिगलानी ने बताया कि सोमवार को लोगों की डिमांड के मुताबिक 25 टैंकरों से 100 ट्रिप पानी के विभिन्न इलाकों में भेजे गए हैं।

Watch: लोकसभा अध्यक्ष ने दूरबीन से देखा 9 दिन से टापू बना बालापुरा गांव का हाल, उफनती चंबल की लहरों के बीच फंसे 400 लोग

यहां किया पाइप लाइन मिलान का कार्य
इधर अधिशासी अभियंता सोमेश मेहरा ने बताया कि अकेलगढ़ से गायत्री विहार क्षेत्र में जा रही नई लाइन से पुरानी लाइन को जोड़ा है। इस लाइन से जब 130 एमएलडी प्लांट नहीं बना था तो स्टेशन क्षेत्र समेत अन्य इलाकोंं पानी पहुंचाया जाता था, बाद में सकतपुरा स्थित प्लांट से जलापूर्ति शुरू होने के बाद इस लाइन से अकेलगढ़ का कनेक्शन काट दिया था। क्षेत्र के लोगों तक पानी पहुंचाने के लिए इसे वापस जोड़ा गया है।

Read More: दर्द-ए-हाल: बदन पर कपड़े ही बचे, बाकी सब कुछ डूबा, गहनों के साथ विवाह की यादों को भी बहा ले गया सैलाब...

इधर लोगों की शिकायत
डडवाड़ा क्षेत्र में अनिता केवट ने बताया कि उनके इलाके में सोमवार को कोई टैंकर नहीं आया। इससे लोग परेशान रहे। टैंकर के आने का समय भी नहीं बताया गया। क्षेत्र के लोगों ने सम्बंधित अभियंता को फोन किया तो मंगलवार को सुबह टैंकर भेजने का आश्वासन दिया। सकतपुरा क्षेत्र में दुर्गा कॉलोनी के वाशिंदे सुबह से शाम तक टैंकर के लिए विभाग के अभियंताओं को फोन करते रहे, शाम को टैंकर आया। लोगों ने बताया कि गिनती के टैंकरों से पानी मिल रहा है। इससे काम नहीं चल रहा है। स्थानीय निवासी शिवकुमार के घर बोरवेल लगा है, जहां दिनभर पानी भरने के लिए भीड़ लगी रही। बाजारों में अब कैंपरों की भी कमी आ रही है। महंगे दाम देने के बावजूद कैंपर उपलब्ध नहीं हो रहे। लोग बोरिंग का पानी पी रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned